भाजपा महिला मोर्चा का किशनगढ उपखंड कार्यालय पर धरना प्रदर्शन

अजमेर। भारतीय जनता पार्टी महिला मोर्चा शहर जिला अजमेर, किशनगढ़ व मदनगंज की ओर से गुरुवार को किशनगढ़ उपखंड कार्यालय के बाहर बिजली दरों में बढोतरी, अपराधों में इजाफे तथा परीक्षाओं में हो रही धांधली के खिलाफ धरना-प्रदर्शन किया गया।

महिला मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष अलका मूंदड़ा के निर्देशानुसार महिला मोर्चा अजमेर शहर जिलाध्यक्ष भारती श्रीवास्तव के नेतृत्व में आयोजित धरना प्रदर्शन में भाजपा पदाधिकारी एवं जनप्रतिनिधि, सांसद भागीरथ चौधरी, अजमेर उत्तर विधानसभा क्षेत्र विधायक वासुदेव देवनानी, अजमेर दक्षिण विधानसभा क्षेत्र विधायक अनीता भदेल, शहर बीजेपी अध्यक्ष डॉक्टर प्रियशील हाड़ा, महामंत्री संपत सांखला तथा महिला मोर्चा की पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता बहनें मौजूद रहीं।

महिला मोर्चा महामंत्री सरोज चौधरी, उपाध्यक्ष लक्ष्मी यादव, उपाध्यक्ष, मृदुला व्यास, उपाध्यक्ष संगीता काकाणी, मंत्री मंजू मेहता, पूर्व सभापति गुणमाला पाटनी, सीमा अखावत, संतोष पारिक, कनिजा बेगम, सविता गुप्ता, तरूणा जैन, शिमला कुमावत, सरिता कवरिया,डिम्पल नोगिया , रेनू नोगिया ममता डिडवानिया , मीनाक्षी पारिक नीतूबलदवा व संतोष कंवर मौजूद रहीं एवं सभी महिलाओं ने अपनी भागीदारी निभाई।

भाजपा का ब्यावर में कांग्रेस सरकार के खिलाफ प्रदर्शन

अजमेर के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ब्यावर मंडल की ओर से आज राज्य की गहलोत सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया गया।

अजमेर देहात भाजपा के जिलाध्यक्ष, पूर्व विधायक देवीशंकर भूतड़ा के नेतृत्व में सैंकड़ों संगठन कार्यकर्ता प्रदेश भाजपा के आह्वान पर ब्यावर के मुख्य बाजारों से नारेबाजी करते हुए उपखंड कार्यालय पहुंचे और वहां उपखंड अधिकारी के कक्ष में बैठ गए। उन्होंने कार्यालय और कार्यालय के बाहर सरकार विरोधी नारे लगाए तथा उपखंड अधिकारी को राज्यपाल के नाम का ज्ञापन सौंपा।

अजमेर देहात अध्यक्ष भूतड़ा ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि राज्य के किसानों, नौजवानों तथा बेरोजगारों को झूठे वादों के दम पर बरगला कर सत्ता में आई कांग्रेस मात्र तीन साल में ही जनता का विश्वास खो चुकी है। प्रदेश की कानून व्यवस्था चौपट है और महिलाएं व बालिकाएं सुरक्षित नहीं है। दलितों के विरुद्ध भी अपराध घटित हो रहे हैं।

उन्होंने कहा कि सरकार का कुप्रबंधन आज राज्य के लिए संकट खड़ा कर रहा है। सरकार के अधिकारी भी सरकार की नहीं सुन रहे। यहां तक की विधायक सरकार के मंत्रियों के विरुद्ध ही सड़क पर लड़ाई लड़ रहे हैं। भ्रष्टाचार चरम पर है।

भूतड़ा ने सरकार द्वारा आमजन को राहत देने के नाम पर प्रशासन शहरों व गांव की ओर चल रहे शिविर केवल वाह वाही लूटने के माध्यम बनकर रह गए हैं। वास्तविकता यह है कि शिविर में कार्य नहीं हो रहे और वहां जा रहे लोग धक्के खाकर लौटने को मजबूर है।

राज्यपाल से आग्रह किया गया है कि वह राज्य के इन ज्वलंत मामलों में स्वसंज्ञान लेकर आमजन को राहत दिलाए। ज्ञापन देने वालों में जिला महामंत्री पवन जैन, चेतन गोयल, करण सिंह रावत, रामवतार लाटा सहित सैकड़ों कार्यकर्ता मौजूद थे। प्रदर्शन के दौरान सरकार विरोधी नारे लिखे हुए गुब्बारे भी उड़ाए गए।