मंत्रिमंडल में फेरबदल में देरी करके खुद को बचाने का प्रयास कर रही है गहलोत सरकार : अरुण सिंह

जयपुर। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महामंत्री एवं प्रदेश प्रभारी अरुण सिंह ने कहा कि गहलोत सरकार मंत्रिमंडल में बदलाव करने में देरी करके खुद को बचाने के लिए संजीवनी लेने की कोशिश कर रही है।

सिंह ने आज यहां राजस्थान में जयपुर के भाजपा प्रदेश मुख्यालय में पत्रकारों से कहा कि गहलोत सरकार को जनता की कोई चिंता नहीं है। कांग्रेस सरकार में आपसी झगड़ों का खामियाजा जनता को उठाना पड़ रहा है।

इस झगड़े को सुलझाने के लिए कभी कर्नाटक से डीके शिवकुमार आ रहे हैं तो कभी हरियाणा से कुमारी शैलजा आती हैं। उन्होंने कहा कि गहलोत पायलट में अब मतभेद नहीं बल्कि मनभेद हो चुका है।

उन्होंने कहा कि जो सरकार अपनी ही पार्टी के विधायकों को संतुष्ट नहीं कर सकती वह जनता की क्या सुध लेगी। यही वजह है कि सरकार ने राज्य की जनता को भगवान भरोसे छोड़ रखा है। उन्होंने कहा कि गहलोत सरकार की नीयत ठीक नहीं है, जबकि नीतियों में भी खोट है। यही वजह है कि राज्य सरकार से जनता ठगी हुई महसूस कर रही है।

सिंह ने कहा कि राजस्थान भाजपा का समस्त कार्यकर्ता जनता के साथ मजबूती से खड़ा है, हमारा संघर्ष और ज्यादा होगा जो कांग्रेस सरकार को उखाड़ने का काम करेगी, सम्पूर्ण किसान कर्जमाफी, बेरोजगारी, लम्बित भर्तियां, बिगड़ी हुई कानून व्यवस्था इत्यादि मुद्दों को लेकर आगामी दिनों में भाजपा राज्य में बड़े जन आंदोलन की तैयारी कर रही है।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एवं शिक्षा मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा पर निशाना साधते हुए अरुण सिंह ने कहा कि डोटासरा अपने पूरे परिवार को ही नंबर दिलवा रहे हैं। यही वजह है कि राज्य का युवा अपने आप को ठगा हुआ महसूस कर रहा है। सिंह ने कहा कि सरकार अपने ही घर मे रेवड़ी बांट रही है। बजरी माफिया और भ्रष्टाचार के नाम पर लूट का खेल जारी है।