जब जोधपुर में दंगे हो रहे थे तब गहलोत जयपुर में जन्म दिन मना रहे थे : जेपी नड्डा

सूरतगढ़। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर जवाबदेही नहीं होने एवं राज्य में कानून व्यवस्था पूरी तरह पटरी से उतर जाने का आरोप लगाते हुए कहा है कि जब जोधपुर में दंगे हो रहे थे तब वह जयपुर में अपना जन्म दिन मना रहे थे।

नड्डा आज यहां पार्टी के बीकानेर संभाग के बूथ अध्यक्ष सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने गहलोत पर अखबार खोलो तो कभी करोली, कभी जोधपुर की घटनाओं के समाचार दिखते है। एक तरफ हमारी सरकार जिम्मेदारी से काम कर रही है वहीं दूसरी और जिस दिन जोधपुर में लोग सड़कों पर थे उस दिन गहलोत साहब जयपुर में अपना जन्म दिन मना रहे थे। जब रोम जल रहा था तो नीरो बांसुरी बजा रहा था, यह स्थिति इन्होंने बना दी है।

उन्होंने कहा कि इन्होंने बहाना ढूंढा है कि सूरज क्यों निकला आरएसएस से पूछो, सूरज क्यों डूबा बीजेपी से पूछो, कोई काम हो बीजेपी से पूछो तो तुम क्या कर रहे हो। क्या गहलोत का काम नहीं है कि वह जोधपुर जाएं जो उनका गृह जिला है, वहां लोगों में झगड़ा है, नहीं गए तो ये दिखाता है कि राजस्थान की जनता के प्रति कितना प्यार है। यह भी दिखाता है कि हाथी के दांत दिखाने के और खाने के और है।

उन्होंने कहा कि राजस्थान संस्कारों के लिए शांति के लिए, विकास के लिए, संस्कृति के लिए जाना जाता है लेकिन राजस्थान का आज का नेता भ्रष्टाचार से, अनाचार से जुडा है और दलितों एवं महिलाओं पर उत्पीड़न करने वाली उनकी सरकार है।

नड्डा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भारत की राजनीति की संस्कृति बदल दी है और अब हमारे विरोधियों को भी विकास की बात बात करनी पड़ती है। पहले वे जातिवाद, संप्रदायवाद, क्षेत्रवाद परिवारवाद के भेदभाव के आधार पर चुनाव लड़ते थे लेकिन आज उन्हें भी मजबूरी में विकास की बात करनी पड़ती है।

उन्होंने कहा कि विपक्षियों ने कभी अपने भाषण में बुनियादी सुविधाओं की चर्चा नहीं की, ये चर्चा करेंगे तो दंगो की करेंगे, जाति की करेंगे, समाज को बांटने की चर्चा करेंगे। हम सबका साथ सबका विकास, सबका विश्वास और सबका प्रयास की चर्चा करते है।

उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार गांव, गरीब, पीड़ित, शोषित, किसान, महिला और युवाओं को मजबूत करने के लिए योजना चला रही है। किसानों के लिए सही मायने में किसी ने काम किया है तो वो मोदी ने किया है। उन्होंने कहा कि ग्यारह करोड़ किसानों को साल मे छह हजार की मदद की जा रही है।

उन्होंने कहा कि पहले देश का प्रधानमंत्री बाहर जाता था तो ये सोच थी की मदद मांगने गए हैं लेकिन आज प्रधानमंत्री मोदी दुनियां को मदद देने जाते है, मदद लेने नहीं जाते। उन्होंने कहा कि जो बूथ् अध्यक्ष होता है वह उत्प्रेरक है, वह ताकत प्रदान करता है, वह बूथ के वोटों का रक्षक है इसलिए सभी बूथ् अध्यक्षों से मेरा निवेदन है कि हमारी जमीन मजबूत रहे उससे हम किसी को भी हराने में सक्षम होंगे और पार्टी की विचारधारा को यशस्वी करने में सफल होंगे।

नड्डा ने कहा कि बूथ ही वह रचना है जो सत्ता का उद्गम स्थान है हमे जो भी ताकत मिलती है वह बूथ से ही मिलती है, इसलिए हमारा नारा भी रहा है, हमारा बूथ सबसे मजबूत। हमे अपने बूथ को मजबूत करना है और वो संस्कार देने है जिससे पार्टी को मजबूती मिले।