मनीष सिसोदिया के घर के बाहर भाजपा का प्रदर्शन, केजरीवाल के इस्तीफे की मांग

BJP protests outside Manish Sisodia's residence
BJP protests outside Manish Sisodia’s residence, demands kejriwal’s resignation

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी ने गुरुवार को मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ कथित मारपीट के खिलाफ दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के आवास के बाहर विरोध प्रदर्शन किया। साथ ही मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के इस्तीफे की मांग की।

सैकड़ों की तादाद में दिल्ली भाजपा इकाई के कार्यकर्ता मुथरा रोड स्थित सिसोदिया के आवास के बाहर इकठ्ठा हुए और आम आदमी पार्टी सरकार के खिलाफ नारे लगाने लगे। प्रदर्शन का नेतृत्व दिल्ली भाजपा के महासचिव कुलजीत सिंह चहल ने किया।

कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए चहल ने कहा कि केजरीवाल और उनकी पार्टी के नेताओं को प्रकाश के साथ किए गए व्यवहार के लिए उनसे माफी मांगनी चाहिए।

उन्होंने आप सरकार और केजरीवाल पर मुख्य सचिव के साथ कथित रूप से मारपीट करने वाले उनके विधायकों के खिलाफ कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगाया।

उन्होंने कहा कि वे शहर के लोगों के बीत शहरी नक्सली मानसिकता का प्रसार कर रहे हैं। इस तरह की अराजकता शहर में कभी नहीं देखी गई। उन्होंने कहा कि इसलिए मुख्यमंत्री और उनके मंत्रियों को इस्तीफा दे देना चाहिए।

सोमवार रात को मुख्यमंत्री अवास पर बैठक के दौरान प्रकाश के साथ कथित मारपीट के मद्देनजर भाजपा का विरोध सामने आया है। प्रकाश ने आरोप लगाया है कि उन्हें ओखला के विधायक अमानतुल्ला खान और अन्य विधायकों ने केजरीवाल की उपस्थिति में पीटा है।

दिल्ली पुलिस ने खान और देवली से विधायक प्रकाश जरवाल को गिरफ्तार कर लिया है। दिल्ली भाजपा के कार्यकर्ताओं ने शहर की विभिन्न जगहों पर प्रदर्शन किए और (लाभ के पद मामले में) अयोग्य घोषित विधायकों समेत सभी आप विधायकों को बरखास्त करने की मांग की।

इस बीच, दिल्ली भाजपा के प्रवक्ता और दिल्ली के पहले मुख्यमंत्री मदनलाल खुराना के बेटे हरीश खुराना ने पार्टी के कई कार्यकर्ताओं के साथ आप के मोती नगर कार्यालय के बाहर प्रदर्शन किया।

खुराना ने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में वर्तमान प्रशासनिक हालात पर हमने मोती नगर विधानसभा क्षेत्र में एक बड़ी बाइक रैली निकाली। उन्होंने कहा कि जिस तरीके से केजरीवाल सरकार बर्ताव कर रही है उससे यह स्पष्ट है पूरा प्रशासन ठप पड़ गया है।

खुराना ने कहा कि अगर दिल्ली सरकार के शीर्ष अधिकारी पर मुख्यमंत्री आवास पर हमला हो सकता है तो कोई भी सोच सकता है कि दिल्ली की सड़कों पर एक अदमी कैसे सुरक्षित रह सकता है। उन्होंने यह भी कहा कि मोतीनगर विधानसभा में लोगों को सही तरीके से पानी और बिजली नहीं मिल रही है।