जम्मू-कश्मीर की संस्कृति को BJP-RSS तोड़ने का प्रयास कर रहे : राहुल गांधी

जम्मू। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को कहा कि जम्मू-कश्मीर की मिली जुली संस्कृति को भारतीय जनता पार्टी -राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ लगातार तोड़ने का प्रयास कर रहे हैं जिसे मुझे बयां करने में काफी दर्द हो रहा है।

गांधी ने पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि मैं काफी निराश और दुखी हूै कि जम्मू कश्मीर के लोगों में भाजपा और आरएसएस धर्म और क्षेत्र के नाम पर बांटने की कोशिश कर रहे हैं और जम्मू-कश्मीर की मिली-जुली संस्कृति को भी तोड़ने का प्रयास कर रहे हैं।

गौरतलब है कि राहुल गांधी यहां गुरुवार को दो दिवसीय यात्रा पर पहुंचे और उन्होंने श्री माता वैष्णो देवी मंदिर की पवित्र गुफा तक पैदल चलकर माता के दर्शन किए।

कांग्रेस सांसद ने कहा कि भाजपा लोगों में भय को माहौला बना रही है और नफरत फैला रही है लेकिन कांग्रेस का प्यार और स्नेह बनाने का काम है। भाजपा-आरएसएस शांति और भाईचारे के माहौल में दरार डालकर जम्मू-कश्मीर की मिली-जुली संस्कृति को कमजोर करने का काम कर रही है। जम्मू कश्मीर में अर्थव्यवस्था, पर्यटन और व्यापार बुरी तरह से प्रभावित हुआ है।

गौरतलब है कि पिछले एक महीने में राहुल गांधी की जम्मू-कश्मीर की यह दूसरी यात्रा है और उन्होंने कहा कि वह आने वाले दिनों में लद्दाख भी जाएंगे।

उन्होंने कहा कि मुझे खुशी है कि मैं जम्मू-कश्मीर आया, लेकिन साथ ही मैं दुखी भी हूँ। गुरुवार को माता वैष्णो देवी गुफा मंदिर की यात्रा के दौरान मैंने दुर्गा जी, लक्ष्मी जी और सरस्वती जी के प्रतीकों को देखा। उन्होंने कहा कि दुर्गा जी हमें सभी बुराइयों से बचाती हैं, लक्ष्मी जी शक्ति का प्रतीक हैं जो आपके सपनों को पूरा करती हैं और सरस्वती जी हमें विद्या एवं ज्ञान देती हैं।

कांग्रेस नेता ने कहा कि हाथ भगवान शिव, गुरु नानक देव जी, इस्लाम का प्रतीक है, जिसका मतलब है डरो मत और कांग्रेस भी इसी तरह है, हम निडर हैं लेकिन भाजपा डरी हुई है। उन्होंने कार्यकर्ताओं को पार्टी की शक्ति बताया और उनकी सराहना की।

गांधी ने जम्मू कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा छीनने पर भाजपा पर जमकर निशाना साधते हुए कहा कि प्रदेश के लोग इससे बुरी तरह से प्रभावित है और भाजपा को प्रदेश के अर्थव्यवस्था ध्वस्त करने के लिए जिम्मेदार ठहराया।

गांधी ने कश्मीरी पंडितों की चर्चा करते हुए कहा कि मैं अपने कश्मीरी भाईयों के प्रतनिधियों से आज मिला। मैं भी उन्हीं का हिस्सा हूं और मैं अपने भाइयों को विश्वास दिलाता हूं कि मैं उनकी मदद करूंगा।