भाजपा जिलाध्यक्ष ने कहा, वोट के लिए संघ को बदनाम कर रही है गहलोत सरकार

सिरोही। भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष एवं प्रशिक्षण वर्ग के मुख्य वक्ता हेमराज मीना ने वर्चुअल प्रशिक्षण वर्ग को संबोधित करते हुए कहा कि किसानों की मूलभूत आवश्यकताएं एवं वित्तीय स्थिति मजबूत होगी तो किसान खुशहाल होगा इस कार्य में आजादी के बाद केंद्र की मोदी सरकार विभिन्न योजनाएं लाकर अव्वल रही है।

मीना ने रस्सी सुधारों पर बोलते हुए वर्चुअल प्रशिक्षण वर्ग में कहा कि भारत कृषि प्रधान देश है। जैविक कृषि को बढ़ावा देकर बेरोजगारी को कम करने में लाभदायक साबित हो सकते हैं। भारत सरकार ने कई कार्य योजनाओं से जैविक कृषि को लागू कर कर विश्व में आज 9वें नंबर पर खड़ा है। केंद्र की मोदी सरकार ने किसान क्रेडिट कार्ड ,ऋण योजना से किसानों के जीवन को बदलने में क्रांति लाई है जिससे उन्हें आर्थिक संबल मिला है। साथ ही 7 वर्षों से मोदी सरकार ने 5.5 गुना ज्यादा वित्तीय प्रावधान लागू कर किसानों को भरपूर फायदा दिलाया है।

मीना ने बताया कि नीम कोटेड यूरिया से किसानों की समस्याएं हल हुई है जिससे 38 मिलियन टन खाद्यान्न उत्पादन 2013 के बाद ज्यादा हुआ है। किसानों को प्रोत्साहन के लिए पीएम किसान योजना से 11.30 करोड़ किसानों को तीन किस्तों में बिना बिचौलियों के राशि सीधे खाते में मिले हैं जिससे उनकी आर्थिक स्थिति को मजबूती मिली है। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में 8.95 करोड किसानों को सीधा लाभ मिला है जो मोदी सरकार का बहुत बड़ा कार्य है।

कोरोना महामारी में किसानों को लोकडाउन में भी किसानों के वाहन, फसल लाने ले जाने फसल संबंधी सारी दुकानें खुली रहने से सभी व्यापारियों में गिरावट देखते हुए भी किसानी कार्यों में बढ़ावा मिला है। किसानों के हित को ध्यान में रखते हुए भूमि सुधार कानून में परिवर्तन कर मृदा स्वास्थ्य कार्ड 11 करोड़ किसानों को मिल चुके हैं जिसमें उनकी उत्पादकता कैसे बढ़ सकती है बताया गया है।

साथ ही कृषि सुधारों पर एग्री इंफ्रास्ट्रक्चर फंड एक लाख करोड़ का बनाया है जिससे खाद्यान्न, उपज के रखरखाव गोडाउन, आना जाना, कोल्ड स्टोरेज आदि किसानों को फायदा पहुंचाने के लिए लागू की है। कृषि यंत्रीकरण योजना, किसान ऋण योजना, ई प्लेटफार्म, प्रधानमंत्री सिंचाई योजना, स्वामीनाथन कमेटी के अनुसार किसान के लागत का डेढ़ गुना मूल्य एमएसपी के रूप में दिया जाना चाहिए।

मीना ने कृषि सुधार कानूनों को भी किसानों के हित में बताया। किसान जहां चाहे अच्छे मूल्यों पर अपनी फसल को स्वतंत्र रूप से बेच सकता है। कृषि उपज मंडियों को मजबूत किया गया किसानों को अपनी फसल का मूल्य 3 दिनों में बेचने पर पेमेंट दिया जाए, कॉन्टैक्ट फार्मेसी कानून को दोहराया है।

भाजपा जिलाध्यक्ष नारायण पुरोहित ने वर्चुअल प्रशिक्षण वर्ग में कृषि सुधार में उठाए गए विभिन्न कदमों के बारे में एवं केंद्र सरकार की कृषि योजनाएं के बारे में विस्तार से बताया। साथ ही पुरोहित ने गहलोत सरकार पर अपनी नाकामी छिपाने के लिए भाजपा और संघ को बदनाम किए जाने का आरोप लगाते हुए कहा कि प्रदेश की कांग्रेस सरकार द्वारा क्षेत्रीय प्रचारक निम्बारामजी के खिलाफ रचा गया षड्यंत्र दुर्भाग्यपूर्ण एवं अस्वीकार्य है।

निम्बाराम का संपूर्ण जीवन समाज और देश के लिए समर्पित रहा है, उन पर ऐसे लांछन लगा लगाकर प्रदेश की सरकार निम्न स्तर की राजनीति का परिचय दे रही है। पुरोहित ने कहा कि कांग्रेस का एक देशभक्त और सेवाभावी सांस्कृतिक संगठन को बदनाम करने का षड़यंत्र कभी सफल नहीं होगा।

वर्चुअल बैठक का संचालन जिला महामंत्री योगेंद्र गोयल ने किया। भाजपा जिलामीडिया प्रभारी चिराग रावल ने बताया कि यह शिविर प्रत्येक सप्ताह के शनिवार को शाम 6 बजे वर्चुअल आयोजित होगा। एक माह तक चलने वाले वर्चुअल प्रशिक्षण वर्ग के 4 शिविर और आयोजित कर विभिन्न वक्ताओं को अलग-अलग विषयों पर संबोधित करेंगे।

वर्चुअल प्रशिक्षण वर्ग में सांसद देवजी पटेल, आबू पिंडवाड़ा विधायक समाराम गरासिया,जिला महामंत्री जयसिंह राव सहित भाजपा जिला पदाधिकारी, मंडल अध्यक्ष, मंडल प्रभारी, मोर्चा जिलाध्यक्ष, मंडल पदाधिकारी एवं सैकड़ों की संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित थे।