मुस्लिम तुष्टीकरण, हिन्दू विरोध की राजनीति पर लौट रही है कांग्रेस : भाजपा

BJP spokesperson sambit patra
BJP spokesperson sambit patra

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी ने कांग्रेस के सांसद एवं पूर्व केन्द्रीय मंत्री शशि थरूर के देश के ‘हिन्दू पाकिस्तान’ बनने संबंधी बयान पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए आज कहा कि कांग्रेस भारत एवं उसके लोकतंत्र को बदनाम करने तथा हिन्दुओं को आतंकवाद से जोड़ने की तुष्टीकरण की राजनीति पर लौट आई है।

भाजपा के प्रवक्ता डॉ. संबित पात्रा ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की कल मुस्लिम बुद्धिजीवियों से मुलाकात के थोड़ी देर बाद थरूर के इस बयान से साबित हाे गया है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी मंदिर भ्रमण तथा जनेऊ धारण करने की फैंसी ड्रेस प्रतियोगिता से बाहर आ गए हैं और कांग्रेस तुष्टीकरण की राजनीति के बिना उसी तरह से नहीं रह सकती है जैसे पानी के बिना मछली।

उन्होंने मीडिया रिपोर्टों का हवाला देते हुए कहा कि इन रिपोर्टों में सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि गांधी ने मुस्लिम बुद्धिजीवियों से मंदिर भ्रमण की राजनीति पर माफी मांगी है और तुष्टीकरण की राजनीति पर लौटने का फैसला किया है। उन्होंने कहा कि वह मीडिया की रिपोर्टों को सच मानते हैं।

डाॅ. पात्रा ने कहा कि आज की सबसे महत्वपूर्ण खबर यह आयी है कि भारत की अर्थव्यवस्था फ्रांस को पछाड़ कर विश्व की छठवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था हो गई है। लेकिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र माेदी और भाजपा से घृणा के कारण कांग्रेस बार बार लक्ष्मण रेखा लांघ कर भारत एवं लोकतंत्र पर प्रहार करने से बाज नहीं आ रही है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने हिन्दू आतंकवाद का शब्द गढ़ा था और आज ‘हिन्दू पाकिस्तान’ का नया शब्द कहा है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी बार बार हिन्दुओं पर आक्रमण कर रही है। पाकिस्तान आतंकवाद का समर्थन करने वाला देश है और ‘हिन्दू पाकिस्तान’ कह कर हिन्दुओं पर परोक्ष रूप से फिर आतंकवादी होने का आरोप लगाया है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस के नेता भारत के संविधान को तोड़े जाने की आशंका जता रहे हैं लेकिन खुद का इतिहास देखें जिसमें आपातकाल के काले दाग हैं जिसमे कांग्रेस ने दो साल तक संविधान को निलंबित करके रखा था। कांग्रेस के शासन में ही राज्यों की 88 निर्वाचित सरकारों को गिराया गया।

भाजपा प्रवक्ता ने कांग्रेस को चेतावनी दी कि वह देश में भय फैलाने की राजनीति ना करे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस लगातार गर्त में गिरती जा रही है। वह कांग्रेस को आगाह करते हैं कि यह स्वस्थ राजनीति के लक्षण नहीं है। उसे सरकार से सवाल पूछने का हक है लेकिन भारत अौर उसके लोकतंत्र के विरुद्ध ही मोर्चा खोल देना कहां की राजनीति है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस के नेताओं द्वारा बार बार ऐसे बयान दिए जा रहे हैं लेकिन गांधी के बयान को छोड़ कर दिग्विजय सिंह, मणिशंकर अय्यर, गुलाम नबी आज़ाद और सैफुद्दीन सोज़ के बयानों से कांग्रेस ने पल्ला झाड़ लिया है और उनके निजी बयान करार दिया है।

उन्होंने पूछा कि अगर ऐसा है तो फिर गांधी बताएं कि कांग्रेस का अस्तित्व क्या सिर्फ सोनिया गांधी और वह स्वयं हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस नेताओं के बयानों को पाकिस्तान में सराहा गया है और लश्कर ए तैयबा के हाफिज सईद की प्रशंसा मिली है। ये बयान हिन्दुओं के बारे में घृणा फैलाने वाले हैं।