भारतीय स्किल डेवलपमेंट यूनिवर्सिटी के कैम्पस में पोर्टा केबिन क्लासरूम्स और वर्कशॉप ब्लॉक्स का उद्घाटन

BSDU campus
BSDU campus

SABGURU NEWS: भारतीय स्किल डेवलपमेंट यूनिवर्सिटी (बीएसडीयू) ने ‘स्किलिंग फॉर बैटर इंडिया थीम पर आयोजित कौशल विकास के एक राष्ट्रीय सम्मेलन के दूसरे दिन आज बीएसडीयू कैम्पस में पोर्टा केबिन क्लासरूम्स और वर्कशॉप ब्लॉक्स का शुभारंभ किया। बीएसडीयू के छात्रों को ऑटोमोटिव, इलेक्ट्रिकल, कारपेंटरी, और आईटी नेटवर्किंग वर्कशॉप का प्रशिक्षण देने के लिए करीब २६००० वर्ग फीटक्षेत्र में पोर्टा केबिन क्लासरूम और कार्यशाला ब्लॉकों की स्थापना की गई है। बीएसडीयू के संस्थापक डॉ. राजेंद्र जोशी ने बोर्ड ऑफ स्टडीज के सदस्यों और डॉ. (ब्रिगेडियर) एस.एस. पाब्ला (वाइस चांसलर, बीएसडीयू) के साथ आज इस सुविधा का उद्घाटन किया।

बीएसडीयू के संस्थापक और अध्यक्ष ने पोर्टा केबिन के क्लासरूम और वर्कशॉप ब्लॉकों के लॉन्च की घोषणा करते हुए कहा, सभी आधुनिक प्रौद्योगिकियों और बेहतरीन मशीनरी के साथ हम बीएसडीयू छात्रों को विश्वस्तरीय अनुभव प्रदान करने का इरादा रखते हैं। हमारी पहली कोशिश यही रहती है कि विद्यार्थियों को मशीनों के साथ व्यावहारिक अनुभव मिलें ताकि उद्योगों में काम किए जाने को लेकर छात्र किसी भी तरह की हिचकिचाहट में न रहें।’

बोर्ड ऑफ स्टडीज के सदस्यों को संबोधित करते हुए डॉ. (ब्रिगेडियर) एस. एस. पाब्ला (वाइस चांसलर, बीएसडीयू) ने कहा, ‘हमारा उद्देश्य कौशल विकास पहल के तहत छात्रों में सर्वश्रेष्ठ कौशल विकसित करना है। एक छात्र-एक-मशीन की अवधारणा के अनुरूप परिसर में इस नई सुविधा का उद्घाटन करते हुए हमें गर्व है। इससे छात्रों को नौकरी के लिए बुनियादी स्तर पर तैयार करने में मदद मिलेगी। हमें यह बताते हुए भी खुशी हो रही है कि बी.वोक के पाठ्यक्रम में नामांकित सभी लोगों को 100 फीसदी जॉब-प्लेसमेंट उपलब्ध करवा कर हमने एक महत्वपूर्ण पडाव पार किया है।’

कौशल विकास के एक राष्ट्रीय सम्मेलन के दूसरे दिन आज बोर्ड ऑफ स्टडीज की 9वीं बैठक भी रखी गई थी, जिसमें सदस्यों ने भारत में कौशल विकास विश्वविद्यालयों के विकास की पहलों को लेकर महत्वपूर्ण सुझाव दिए।

आज के इस उद्घाटन समारोह में आरयूजे समूह व बीएसडीयू की संस्थापक श्रीमती उर्सुला जोशी, भारतीय स्किल डेवलपमेंट यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर डॉ. (ब्रिगेडियर) एस.एस. पाब्ला, आरयूजेसीटी के अध्यक्ष श्री जयंत जोशी, मणिपाल यूनिवर्सिटी के अध्यक्ष डॉ. जी. के. प्रभु सहित कई गणमान्य हस्तियों ने भागीदारी निभाई।