भारतीय मजदूर संघ का केंद्र सरकार के बजट के खिलाफ विरोध प्रदर्शन

bhartiya mazdoor sangh not happy with modi govt Union Budget 2018

जयपुर। भारतीय मजदूर संघ ने केंद्रीय बजट का विरोध करते हुए कहा कि यह बजट मजदूर एंव कर्मचारी विरोधी है। भारतीय मजदूर संघ ने आज प्रदेश भर में बजट के विरोध में प्रदर्शन किया। जयपुर में यह प्रदर्शन सिंधी कैंप बस स्टैंड पर किया गया।

केंद्रीय वित्तमंत्री ने बढ़ती महंगाई के बावजूद आयकर सीमा मैं किसी प्रकार की राहत प्रदान नहीं की है, जबकि सेस 3% से बढ़ाकर 4% कर दिया गया है। दूसरी और कोरपोरेट टेक्स में भारी कटोती की है। आशा आंगनबाड़ी एवं अन्य स्कीम वर्कर्स के मानदेय बढ़ाने के आश्वासन के बावजूद सरकार ने मानदेय बढ़ाने का कोई प्रावधान नहीं किया है।

सरकार द्वारा बीमा के एकीकरण की घोषणा की है लेकिन इसके कारण रोजगार सुरक्षा स्थानांतरण एंव पदोन्नति जैसे मामले पेचीदा हो गए हैं। सरकार द्वारा बीमा तथा सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों के सुधार के बारे में कोई घोषणा नहीं की गई है। न्यूनतम वेतन में बढोतरी नहीं की गई है। ओएनजीसी विनिवेश का निर्णय गलत है त्रिपक्षीय वार्ता के बिना बजट में निश्चित अवधि का रोजागार देने की घोषणा श्रमिक हित में नहीं है।

भारतीय मजदूर संघ आगे की रणनीति तय करने के लिए 6 से 8 फरवरी को अंबाजी (गुजरात) में होने वाली कार्यसमिति में निर्णय लेगा। इस प्रदर्शन में भारतीय मजदूर संघ के अखिल भारतीय मंत्री राज बिहारी शर्मा ने उद्बोधन देते हुए केंद्र सरकार द्वारा किए श्रमिक विरोधी नीतियों के बारे में विस्तार से बताते हुए भर्त्सना की।

इस विरोध प्रदर्शन में भारतीय मजदूर संघ के राष्ट्रीय कार्यसमिति सदस्य एसके राठोड़ और भारतीय मजदूर संघ के प्रदेश मंत्री विष्णु शर्मा उपस्थित थे, साथ जयपुर जिले के विभिन्न संगठनो के सेकड़ो कार्यकर्ताओ ने भाग लिया।