सरकार रहे ना रहे राम मंदिर तो जरूर बनेगा : उद्धव ठाकरे

Build Ram Temple Or You Won't Remain In Power, Says Uddhav Thackeray
Build Ram Temple Or You Won’t Remain In Power, Says Uddhav Thackeray

अयोध्या। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर राम मंदिर का इस्तेमाल जुमले के तौर पर किए जाने का आरोप लगाते हुए शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा कि केंद्र में भारतीय जनता पार्टी नीत सरकार रहे या ना रहे मंदिर का निर्माण हर हाल में किया जाएगा।

राम की नगरी अयोध्या में रविवार को पत्रकारों से बातचीत में ठाकरे ने आरोप लगाया कि राम मंदिर का नाम लगभग हर चुनाव में इस्तेमाल करने वाली भारतीय जनता पार्टी मंदिर निर्माण के अपने वादे से मुकर रही है।

प्रधानमंत्री मोदी पर तंज कसते हुए शिवसेना प्रमुख ने कहा कि अगर मामला अदालत के पास ही जाना है तो चुनाव प्रचार के दौरान उसे इस्तेमाल ना करें और बता दें भाइयों और बहनों हमें माफ करो। यह भी हमारा एक चुनावी जुमला था। भगवान के लिए हिंदुओं की भावनाओं के साथ खिलवाड़ ना करें, यही कहने मैं यहां आया हूं।

भाजपा से सवाल करते हुए उन्होंने कहा कि जब आप चुनाव के दौरान प्रचार करते हो, तब आप की निगाह सभी संभावित संवैधानिक विकल्पों पर होती है लेकिन यह दुर्भाग्य है कि पिछले साढ़े चार सालों के कार्यकाल में आपने यहां कुछ नहीं किया। अब लोग कहने लगे हैं भाई यह तो चुनावी जुमला था।

ठाकरे ने कहा कि मैं भारतीय जनता पार्टी सरकार से पूछना चाहता हूं, राम मंदिर निर्माण की दिशा में आपके पास कितने विकल्प हैं, क्या विमुद्रीकरण पर फैसला लेने के लिए आप अदालत की शरण में गए थे जो अब आप राम मंदिर निर्माण के लिए अदालत के फैसले का इंतजार कर रहे हो। सरकार बहुत शक्तिशाली है मगर बहुसंख्यक समाज की उम्मीदों पर विफल साबित हुई है।

उन्होंने चेतावनी दी कि अगर सरकार मंदिर निर्माण नहीं कराती है तो उसे सत्ता में रहने का कोई अधिकार नहीं है मगर मंदिर हर हाल में बनेगा। उन्होंने कहा कि चुनाव के दौरान लोग राम-राम कहते हैं और चुनाव होने के बाद चैन की नींद सो जाते हैं। देश इंतजार कर रहा है कि राम मंदिर कब बनेगा आप अध्यादेश लाइए हम आपका समर्थन करने के लिए तैयार हैं।

ठाकरे ने कहा कि मोदी सरकार विवादित श्रीरामजन्मभूमि पर विराजमान रामलला का भव्य मंदिर का निर्माण नहीं कराती है तो उसे अगला लोकसभा चुनाव जीतना मुश्किल हो जाएगा। रामलला का दर्शन करने के बाद पत्रकारों से बातचीत में शिवसेना प्रमुख ने कहा कि रामलला का दर्शन करते समय मुझे बहुत दुख हुआ है। ऐसा लग रहा था कि मंदिर नहीं मैं किसी जेल में जा रहा हूं। मैंने रामलला से यही मांग किया है कि शीघ्र ही आपका भव्य मंदिर बने। हम आपके साथ हैं।

उन्होंने कहा कि केन्द्र में ताकतवर होने के बावजूद सरकार मंदिर निर्माण के लिये अध्यादेश या कानून क्यों नहीं लाती है। अगर इस बार मंदिर का निर्माण नहीं हुआ तो अगले चुनाव में भाजपा की पूर्ण बहुमत से सरकार बनना तो दूर जीतना भी मुश्किल हो जाएगा।

ठाकरे ने अपनी यात्रा के लिये उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रशासन के प्रति आभार जताते हुए कहा कि कल से अयोध्या में हूं, मुझे बहुत अच्छा लगा और मेरी यह यात्रा सफल हुई। सबका सहयोग मिला। बड़ी खुशी की बात तो यह है कि संतों ने मुझे कल जो आशीर्वाद दिया है उससे भगवान राम के मंदिर निर्माण में काफी सहयोग मिलेगा। शिवसेना हिन्दुत्व के साथ रही और आगे भी साथ देती रहेगी।

उन्होंने कहा कि हिन्दुओं में आत्मविश्वास बाला साहब ठाकरे ने पैदा किया था और निवर्तमान प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने कहा था मंदिर निर्माण के लिए अब हिन्दू मार नहीं खाएगा। उन्होंने केन्द्र की मोदी सरकार से पूछा कि आप जनता को बताओ हम मंदिर नहीं बना सकते हैं तो न्यायालय के फैसले का इंतजार किया जाय। हिन्दू ताकतवर है और चुप नहीं रहेगा। भाजपा सरकार के एजेंडे में अगर मंदिर नहीं है तो राम-राम कहना छोड़ दो।

उन्होंने केन्द्र सरकार को याद दिलाया अभी शीतकालीन सत्र बचा हुआ है। अध्यादेश लाओ, कानून बनाओ हम आपके साथ हैं। केन्द्र सरकार ने ट्रिपल तलाक, एससी/एसटी कानून ला सकती है तो मंदिर पर कानून क्यों नहीं ला सकती।

इस अवसर पर शिवसेना के प्रवक्ता संजय राउत, प्रदेश अध्यक्ष अनिल कुमार तिवारी, सम्मान समारोह आशीर्वाद उत्सव के आयोजक एवं संयोजक पं. अमरनाथ मिश्र सहित शिवसेना के प्रमुख पदाधिकारी मौजूद थे। कार्यक्रम के बाद उद्धव ठाकरे चार्टेड प्लेन से परिवार के संग अयोध्या से मुम्बई के लिए रवाना हो गए।