लल्लू को जेल भेजने से खफा यूपी कांग्रेस चलाएगी महाअभियान

लखनऊ। उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को गैर कानूनी तरीके से जेल भेजने का आरोप लगाते हुए कांग्रेस ने ऐलान किया है कि पार्टी योगी आदित्यनाथ की सरकार राजनीतिक द्वेष और गरीब विरोधी मानसिकता का खुलासा गांव गांव जाकर करेगी।

पार्टी के नेताओं ने मंगलवार को यहां आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि कांग्रेस लल्लू को गैरकानूनी ढंग से जेल भेजने के खिलाफ महाअभियान चलाएगी। उनकी जमानत याचिका सेशन कोर्ट से खारिज कर दी गई है लेकिन पार्टी को न्यायपालिका में पूरा विश्वास है और प्रदेश अध्यक्ष को इंसाफ मिलेगा।

कांग्रेस विधायक दल की नेता आराधना मिश्रा मोना ने कहा कि लाखों जरूरतमंदों तक भोजन और राशन पहुंचाने वाले, हजारों मजदूरों को उनके घरों तक लाने वाले, गरीबों-मजदूरों के मददगार अजय कुमार लल्लू का आखिर अपराध क्या है। यही कि उन्होंने जरूरतमंदों की मदद की। मजदूरों को राहत मिले इसलिए बसों का बंदोबस्त किया।

सेवा कार्य से बौखलाई योगी सरकार ने पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी के निजी सचिव संदीप सिंह और कांग्रेस के 90 से अधिक नेताओं के ऊपर फर्जी मुकदमे दर्ज कराए हैं। फर्जी मुकदमे और जेल की सलाखें सेवाकार्य को रोक नहीं पाएगीं।

उन्होंने कहा कि हम एक जिम्मेदार विपक्ष की भूमिका निभा रहे हैं लेकिन योगी सरकार राजनीतिक द्वेष और गरीब विरोधी मानसिकता का परिचय दे रही है। श्री लल्लू को गैरकानूनी ढंग से जेल भेजने के खिलाफ महाअभियान चलाएगी। हम गांव-गांव, हर गरीब की झोपड़ी तक अपनी बात ले जाएंगे और लोगों की सेवा करेंगे।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और विधान परिषद सदस्य नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने कहा कि अब तक पूरे प्रदेश में 90 लाख से अधिक लोगों तक कांग्रेस पार्टी ने राशन और भोजन पहुंचाया है। 10 लाख प्रवासी श्रमिकों की मदद की। 22 जिलों में साझी रसोईघर चलाया गया। 40 हाइवे स्टॉल्स लगाकर नाश्ता, खाना वितरित किया गया। यह सब प्रदेश अध्यक्ष लल्लू के नेतृत्व में हुआ। कांग्रेस कार्यकर्ता आज फिर सेवा का संकल्प ले रहे हैं कि भाजपा सरकार के दमन से झुकेंगे नहीं, सेवा कार्य और जी जान लगाकर करेंगे।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस की पंजाब सरकार ने 34 करोड़ रुपए श्रमिकों को टिकट के लिए दिया। 54 करोड़ महाराष्ट्र सरकार ने श्रमिकों को टिकट के लिए दिया। पांच करोड़ रुपए राजस्थान सरकार ने अकेले यूपी के मजदूरों के टिकट के लिए खर्च किया। कल ही वाड्रा ने 16 सौ श्रमिकों को ट्रेन से गोरखपुर मुख्यमंत्री के क्षेत्र में भेजा है।

सिद्दिकी ने कहा कि हमें देश की न्यायपालिका पर भरोसा है। मजदूरों, गरीबों और जरूरतमंदों के साथी लल्लू जी को जरूर इंसाफ मिलेगा। पूर्व मंत्री नसीमुद्दीन सिद्दीकी कहा कि भाजपा के नेता और कार्यकर्ता रोजाना सोशल डिस्टेंसिंग और महामारी में लागू नियमों की धज्जियां उड़ाते हैं। अपने सभी राजनीतिक कार्यक्रम करते हैं। लेकिन एक भी भाजपा का नेता गरीब की सेवा करते नहीं दिखा। प्रदेश के मुख्यमंत्री अपनी पीठ थपथपाने में व्यस्त हैं। उप मुख्यमंत्री पतंगबाजी में लगे हैं।

प्रदेश उपाध्यक्ष वीरेंद्र चैधरी ने कहा कि गरीब-मजदूर विरोधी योगी आदित्यनाथ की सरकार नहीं चाहती कि श्रमिक को राहत मिले लेकिन योगी कान खोलकर सुन लीजिए, हमारा मदद का हाथ कमजोर नहीं होगा।