स्टीवन स्मिथ को कप्तानी छोड़ने के लिए कहा गया, सीए की जांच शुरू

Calls for Steve Smith to give up captaincy as Cricket Australia launches ball tampering probe
Calls for Steve Smith to give up captaincy as Cricket Australia launches ball tampering probe

मेलबोर्न। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ तीसरे क्रिकेट टेस्ट के दौरान ‘बॉल टेम्परिंग’ की दोषी पाई गई आस्ट्रेलियाई टीम के स्टीवन स्मिथ को कप्तानी छोड़ने के लिए कहा गया है, वहीं क्रिकेट आस्ट्रेलिया ने इस मामले में अपनी जांच शुरू कर दी है।

सीए के मुख्य कार्यकारी जेम्स सदरलैंड ने हालांकि स्मिथ का समर्थन किया और रविवार को कहा कि जब तक बोर्ड की इस मामले में जांच पूरी नहीं हो जाती है तब तक स्मिथ टीम के कप्तान बने रहेंगे। सदरलैंड ने मीडिया के जमावड़े के सामने कहा कि स्मिथ फिलहाल आस्ट्रेलियाई टीम के कप्तान हैं।

दूसरी ओर पूर्व क्रिकेटरों और क्रिकेट पंडितों ने स्मिथ को तुरंत प्रभाव से कप्तानी से हटाने की मांग की है। ऐसे में सदरलैंड का यह बयान काफी चौंकाने वाला है। आस्ट्रेलियाई टीम के सीनियर खिलाड़ियों और कप्तान स्मिथ ने केपटाउन में तीसरे टेस्ट के तीसरे दिन गेंद के साथ छेड़खानी की थी और पकड़े जाने पर इस बात को उन्होंने स्वीकार भी किया है।

सदरलैंड ने कहा कि हम इस पूरी प्रक्रिया पर नज़र रखे हुए हैं और जब तक इस मामले में पूरी स्थिति साफ नहीं हो जाती तथा सीए इंटेग्रिटी प्रमुख इयान रॉय अपनी रिपोर्ट नहीं दे देते आगे की कार्रवाई को लेकर कुछ नहीं कहा जा सकता है।

स्मिथ वर्ष 2015 से ही आस्ट्रेलियाई टीम की कप्तानी कर रहे हैं और फिलहाल दुनिया के नंबर वन टेस्ट बल्लेबाज हैं। उन्होंने केपटाउन में शनिवार को पत्रकारों के सामने खुद ही सीनियर खिलाड़ियों के साथ मिलकर गेंद के साथ छेड़छाड़ करने की बात स्वीकारी थी।

ओपनिंग बल्लेबाज़ और टीम के सबसे युवा खिलाड़ी 25 साल के कैमरन बेनक्राॅफ्ट को मैच के दौरान मैदान पर जाकर गेंद के व्यवहार में बदलाव करने का जिम्मा सौंपा गया था जिन्होंने एक पीले रंग के टेप को गेंद पर चिपकाया। लेकिन कैमरा पर उनकी यह हरकत साफ दिखाई दी।

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद ने इस मामले में बेनक्रॉफ्ट पर एक मैच का प्रतिबंध लगाने के साथ 100 फीसदी मैच फीस का जुर्माना लगाया है। इस घटना के सामने आने के बाद से दक्षिण अफ्रीका के साथ आस्ट्रेलियाई मीडिया भी अपनी टीम पर धोखाधड़ी करने का आरोप लगा उसकी निंदा कर रही है।

आस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान माइकल क्लार्क ने भी इस मामले में स्मिथ की निंदा की है और कहा कि उन्हें यकीन है कि इस घटना के बाद स्मिथ अपने होटल के कमरे में रो रहे होंगे। स्मिथ को क्लार्क के संन्यास के बाद कप्तानी मिली थी। क्लार्क ने कहा कि मुझे यकीन नहीं हो रहा है कि टीम के सीनियर खिलाड़ियों ने यह फैसला किया। इसने सभी को शर्मिंदा किया है और हम में से किसी को यह स्वीकार्य नहीं है।

आस्ट्रेलिया के पूर्व गेंदबाज़ रोडनी हॉग ने कहा कि स्मिथ इस घटना के बाद टीम के कप्तान नहीं रह सकते हैं।उन्होंने कहा कि यह दुर्भाग्य से धोखा देने का मामला है और स्मिथ को अब आस्ट्रेलियाई टीम के कप्तानी पद से इस्तीफा देना होगा।

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन ने बेनक्रॉफ्ट को इस योजना को लागू करने का जिम्मा देने पर स्मिथ की निंदा की है। उन्होंने कहा कि यह काफी हैरानी की बात है कि एक युवा खिलाड़ी को यह काम सौंपा गया ताकि बाकी सीनियर इस आरोप से बच सकें।

दूसरी ओर सदरलैंड ने इस पूरे मामले में आस्ट्रेलियाई टीम की चौतरफा आलोचना के बावजूद स्मिथ का समर्थन किया है। उन्होंने कहा कि मैं आस्ट्रेलियाई क्रिकेट के लिए बहुत दुखी हूं और प्रशंसकों के पास टीम पर गर्व नहीं करने का उचित कारण है।

सीए सीईओ ने साथ ही कहा कि इस मामले में आईसीसी मैच रेफरी ने अपनी सजा निर्धारित कर दी है। उन्होंने कहा कि आईसीसी रेफरी ने बेनक्रॉफ्ट को लेकर अपना फैसला दे दिया है। खिलाड़ी ने भी इसे स्वीकारा है। सीए आने वाले दिनों में इसे लेकर अपना फैसला दे देगा।