किसी की जिंदगी की गारंटी नहीं ले सकते : नवाज शरीफ की सेहत पर इमरान खान की टिप्पणी

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने पूर्व प्रधानमंत्री और पाकिस्तान मुस्लिम लीग नवाज (पीएमएल-एन) नेता नवाज शरीफ के गंभीर रुप से बीमार होने पर सोमवार को कहा कि वह किसी के जीवन की गारंटी नहीं ले सकते हैं।

खान ने इस्लामाबाद उच्च न्यायालय की पिछले सप्ताह की कार्यवाही का उल्लेख करते हुए यह बात कही। उच्च न्यायालय ने अपनी टिप्पणी में कहा था कि सरकार कारावास की सजा भुगत रहे पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के स्वास्थ्य की ‘जिम्मेदारी’ ले।

डान न्यूज के मुताबिक प्रधानमंत्री ने ननकाना साहिब में आज बाबा गुरु नानक विश्वविद्यालय की आधारशिला रखने के मौके पर आयोजित समारोह के दौरान यह बात कही। उन्होंने कहा कि आज मैंने एक रिपोर्ट पढ़ी है जिसमें न्यायालय ने संघ और प्रांतीय सरकार से जानकारी चाही है कि क्या वह कल तक नवाज शरीफ की जिंदगी की गारंटी ले सकते हैं। मैं तो कल तक के लिए अपने जीवन की गारंटी नहीं ले सकता तो मैं किसी और की जिंदगी की गारंटी कैसे दे सकता हूं?

इस्लामाबाद उच्च न्यायालय ने अल अजीजिया भ्रष्टाचार मामले में नवाज शरीफ को 29 अक्टूबर तक अंतिरम जमानत दी है। शरीफ इस समय गंभीर रुप से बीमार है और उनके खून में प्लेटलेट की मात्रा बहुत कम हो गई है वर्तमान में उनका लाहौर सर्विसेज अस्पताल में इलाज चल रहा है।

न्यायालय में कार्यवाही के दौरान संघीय सरकार ने नवाज शरीफ के स्वास्थ्य की जिम्मेदारी लेने से इंकार कर दिया था। न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश अतहर मिनाल्लाह की टिप्पणी थी कि यदि प्रांतीय और संघीय सरकारें अपने कर्तव्य को निभाती तो इस मामले के न्यायालय के समक्ष आने की जरुरत ही नहीं पड़ती।

आतंरिक सचिव ने जब न्यायालय से कहा कि संघीय सरकार पूर्व प्रधानमंत्री के स्वास्थ्य की जिम्मेदारी नहीं ले सकती है तो इस पर खंडपीठ ने इस पर नाराजगी जताते हुए टिप्पणी की थी कि न्यायालय के साथ राजनीति मत खेलिए क्योकिं कानून में सरकार की कुछ जिम्मेदारियों को स्पष्ट किया है।