सिरोही जिला कारागार की चारदीवारी के पत्थर चोरी का प्रकरण दर्ज

सिरोही में जेल चौराहे पर सड़क चौड़ी करने के लिए बनाई गई नई दीवार जिसके पत्थर चोरी होने का मामला दर्ज करवाया गया है।
सिरोही में जेल चौराहे पर सड़क चौड़ी करने के लिए बनाई गई नई दीवार जिसके पत्थर चोरी होने का मामला दर्ज करवाया गया है।

सबगुरु न्यूज-सिरोही। जेल चौराहे के सौंदर्यीकरण के लिये माली समाज छात्रावास की तरफ की जेल की दीवार तोड़ने के बाद उसके पत्थर चोरी होने का मामला सिरोही नगर परिषद के जेईएन भरत सिंह राजपुरोहित ने सिरोही कोतवाली में दर्ज करवाया है।

रिपोर्ट में बताया गया कि जेल चौराहे को चौड़ा करने के लिए नगर परिषद द्वारा पूर्व निर्मित चारदीवारी से लगभग 10 फीट अंदर नवीन चारदीवारी का निर्माण कार्य करवाया गया था। यह कार्य 7 मार्च 2018 को पूर्ण हो चुका था। कार्य पूर्ण होने के पूर्व में निर्मित दीवार की 76 मीटर लंबी थी। किसी अज्ञात व्यक्ति द्वारा चारदीवारी हटा कर इसमें निकाले गए पत्थर वहां से गायब कर दिए गए।

रिपोर्ट में बताया गया था कि मौके पर 85.50 क्यूबिक मीटर दीवार हटाई गई थी। इसमें 57 क्यूबिक मीटर उपयोग योग्य पत्थर थे । वर्तमान में रुडीप द्वारा प्रस्तुत बीएसआर के अनुसार इसकी कुल लागत ₹28500 होती है। पुलिस ने प्रकरण दर्ज करके जांच शुरू कर दी है।
-संयम लोढ़ा का था चुनावी मुद्दा
सिरोही जेल की चारदीवारी से पत्थर गायब होने का प्रकरण सिरोही नगर परिषद चुनाव के दौरान स्थानीय विधायक संयम लोढ़ा का प्रमुख चुनावी मुद्दा था। इतना ही नहीं हर चुनाव से पूर्व सजावा दरवाजे से होने पर होने वाली सभा इस नगर पालिका चुनाव में भी हुई थी और विधायक संयम लोढ़ा ने अपने भाषण की शुरुआत ही भाटा चोरी प्रकरण से की थी।

उन्होंने लोगों से वादा किया था कि जेल की दीवार के पत्थर चोरी करने वालों को वह जेल की सलाखों के पीछे भिजवा कर रहेंगे और इस प्रकरण को उन्हीं के उस वादे की कड़ी के रूप में देखा जा रहा है। उल्लेखनीय है कि जेल चौराहे के का सौंदर्यीकरण का काम पूर्व के भाजपा बोर्ड में करवाया गया था। कांग्रेस द्वारा भाजपा के पूर्व के बोर्ड में हुए अनियमितता को प्रमुख मुद्दा बनाकर कांग्रेस में सिरोही नगर परिषद में अभूतपूर्व जीत दर्ज की थी।