गुजरात की कंपनी के खिलाफ यूनियन बैंक आफ इंडिया से धोखाधड़ी का मामला

मुंबई। केंद्रीय जांच ब्यूरो ने यूनियन बैंक आफ इंडिया को कथित रूप से करीब 134.43 करोड़ रुपए का नुकसान पहुंचाने के मामले में गुजरात की एक निजी कंपनी, उसके निदेशकों और अन्य के खिलाफ मामला दर्ज किया है और शुक्रवार को उनके कार्यालयों तथा आवासों पर छापे मारे।

सीबीआई सूत्रों के मुताबिक यूनियन बैंक ऑफ इंडिया की शिकायत पर गुजरात में गांधीधाम स्थित मेसर्स एसोसिएट हाई प्रेशर टेक्नोलॉजी प्राइवेट लिमिटेड कंपनी तथा उसके निदेशकों और अन्य के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

कंपनी पर अपने निदेशकों और गारंटरों के माध्यम से बैंक के धन का दुरुपयोग करने और गलत ढंग से लाभ अर्जित करने का आरोप है। शिकायत में यह भी कहा गया है कि अन्य बैंकिंग चैनल के माध्यम से धन को डायवर्ट करना ऋण स्वीकृति आदेशों के नियमों और शर्तों का उल्लंघन है तथा यूनियन बैंक ऑफ इंडिया को कथित रूप से करीब 134.43 करोड़ रुपये (ब्याज सहित) का नुकसान हुआ।

उन्होंने बताया कि मुंबई में छह स्थानों पर आरोपियों के परिसरों की तलाशी ली गई और कई आपराधिक दस्तावेज बरामद हुए।

सीबीआई ने जिनके खिलाफ मामला दर्ज किया है। उनमें रामचंद के.इस्रानी, मोहम्मद फारूक सुलेमान दरवेशो, श्रीचंद सतरामदास अगिचा, इब्राहिम सुलेमान दरवेश, मनोहरलाल सतरामदास अगिचा, सतीश सुंदरदास अगिचा तथा अज्ञात लोक सेवक और अन्य शामिल हैं।