CBSE ने प्रश्नपत्रों को लीक होने से रोकने के लिए की कर्मचारियों की तैनाती

CBSE deploying its staff across country to prevent leak of question papers
CBSE deploying its staff across country to prevent leak of question papers

नई दिल्ली। केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने एक अभूतपूर्व कदम उठाते हुए सोमवार को होने वाली परीक्षाओं के लिए यहां मुख्यालय में कार्यरत अपने सभी कर्मचारियों को रविवार को रिपोर्ट करने को कहा। इन कर्मचारियों को विभिन्न स्थानाें पर भेजा जाएगा।

सीबीएसई ने अपने अति आवश्यक संदेश में मुख्यालय में कार्यरत अपने सभी कर्मचारियों को रिपोेर्ट करने को कहा और दिल्ली से बाहर की यात्रा पर जाने के लिए उन्हें एक छोटा बैग लाने के निर्देश भी दिए गए। कल 12वीं कक्षा के हिन्दी (इलेक्टिव) विषय की परीक्षा होनी है।

सीबीएसई सूत्रों ने बताया यह कदम 12वीं कक्षा की परीक्षा के लिहाज से पहली बार उठाया गया है और इसका मकसद यही है कि और प्रश्न पत्रों को लीक होने से रोेका जा सके।

सीबीएसई ने यह भी कहा है कि इस समय 12वीं कक्षा के हिन्दी (इलेक्टिव) और राजनीति विज्ञान के जाे प्रश्नपत्र सोशल मीडिया, व्हाट्सएप और यू-ट्यूब पर भेजे जा रहे हैं वे सभी फर्जी हैं। अपनी आधिकारिक विज्ञप्ति में बाेर्ड ने सूचना दी है कि सोशल मीडिया में जारी प्रश्नपत्र या तो फर्जी है और या फिर पिछले वर्षों के हैं।

मानव संसाधन विकास सचिव अनिल स्वरूप ने ट्वीट में सोमवार को 12वीं की हिन्दी की होने वाली परीक्षा हिन्दी (इलेक्टिव) के प्रश्नपत्र लीक होने के बारे में छात्रों को चेताया कि यह महज अफवाह है और यह 2017 के हिन्दी कम्पार्टमेंट का पेपर है।

विशेष पुलिस आयुक्त (अपराध) आर पी उपाध्याय ने कहा उन्हें ई-मेल एड्रेस के बारे में जानकारी मिली है और मेल भेजने वाले की पहचान की गई है। पुलिस ने कहा दसवीं कक्षा के छात्र को व्हट्सएप के जरिये गणित का पेपर मिला था और सीबीएसई अध्यक्ष को मेले भेजने के लिए छात्र ने अपने पिता की ई-मेल आईडी का इस्तेमाल किया था।

पुलिस ने बोर्ड को शिकायतों की सूची बनाने को भी कहा है ताकि पेपर लीक के संबंध में पता चल सके। सीबीएसई ने कुछ शिकायतों को साझा किया है जो उसे ई-मेल और पत्रों के माध्यम से मिले थे। पुलिस इन शिकायतों का विश्लेषण करने के लिए जांच कर रही है ताकि यह पता लगा सके कि इसमें मामले में कितनी सच्चाई है।

पुलिस बाहरी दिल्ली के स्कूलों और कोचिंग सेंटरों की पेपर लीक मामले में भूमिका की जांच कर रही है। पुलिस ने अभी तक 53 छात्रों और सात अध्यापकों सहित 60 से अधिक लाेगों से पूछताछ की है। पुलिस पेपर लीक मामले में छह व्हट्सएप ग्रुप तक पहुंच गई है और उनसे भी इस मामले में जांच की जा रही है।