अब स्वदेश निर्मित वेंटिलेटर का होगा निर्यात, मंत्रिमंडल समूह ने दी मंजूरी

नई दिल्ली। देश में कोरोना संक्रमण के कारण गंभीर रूप से बीमार व्यक्तियों की कम संख्या को देखते हुए स्वदेश निर्मित वेंटिलेटर के निर्यात को कोविड-19 को लेकर गठित मंत्रिमंडल समूह ने अपनी मंजूरी दे दी है।

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने आज बताया कि मंत्रालय ने इस संदर्भ में मंत्रिमंडल समूह के समक्ष अपना प्रस्ताव रखा था, जिसे मंजूरी दे दी गई है। इस निर्णय के बाबत विदेश व्यापार महानिदेशक को सूचना दे दी गई है। डीजीएफटी अब स्वदेश निर्मित वेंटिलेटर निर्यात सुनिश्वित करने की दिशा में जरुरी कदम उठाएंगे।

देश में कोरोना मृत्युदर में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है। देश में कोरोना मृत्युदर आज 2.15 प्रतिशत है। मंत्रालय ने बताया कि 31 जुलाई तक कुल सक्रिय मामलों में से मात्र 0.22 प्रतिशत कोरोना संक्रमित वेंटिलेटर पर थे।

देश में वेंटिलेटर का विनिर्माण तेजी से हो रहा है। देश भर में 20 से अधिक कंपनियां वेंटिलेटर बना रही है। गत 24 मार्च को वेंटिलेटर के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया गया था ताकि देश में कोरोना मरीजों का समुचित उपचार हो पाए।