कोरोना संकट : राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन की अवधि में 31 मई तक इजाफा

नई दिल्ली। कोरोना महामारी से निपटने के लिए चलाए जा रहे राष्ट्रव्यापी अभियान के तहत देश भर में लागू पूर्णबंदी की अवधि आगामी 31 मई तक बढा दी गई है।

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनडीएमए) ने केन्द्रीय गृह सचिव को आज पत्र लिखकर कहा है कि कोरोना महामारी से निपटने के लिए की गयी पूर्णबंदी के उपायों को आगे बढाये जाने की जरूरत है। प्राधिकरण ने देश भर में पूर्णबंदी की अवधि 31 मई तक बढाने को कहा है।

उल्लेखनीय है कि देश भर में गत 25 मार्च से लागू पूर्णबंदी के तीसरे चरण का आज अंतिम दिन है और चौथा चरण सोमवार से शुरू होगा। इससे संबंधित दिशा निर्देशों की गृह मंत्रालय द्वारा जल्द ही घोषणा की जाएगी।

बंद रहेगी हवाई, मेट्रो और रेल यात्रा

केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने कोरोना महामारी के कारण देश भर में पूर्णबंदी की अवधि 31 मई तक बढाते हुए चौथे चरण से संबंधित दिशा निर्देश जारी कर दिए हैं जिनमें पहले की तरह मेट्रो, ट्रेनों और हवाई यात्रा पर प्रतिबंध लागू रहेगा और सभी तरह के शैक्षणिक संस्थान भी बंद रहेंगे।

मंत्रालय द्वारा आज जारी दिशा निर्देशों में कहा गया है कि कोरोना के संक्रमण के आधार पर क्षेत्रों को तीसरे चरण की तरह ही रेड, ओरेंज और ग्रीन जोन में बांटा गया है। साथ ही इस बार ओरेंज और रेड जोन में कंटेनमेंट और बफर जोन भी बनाए जाएंगे। इस बार इन जोन का निर्धारण करने का निर्णय राज्य सरकारों पर छोड़ा गया है।

ये जोन जिला, नगर निगम और यहां तक कि उप मंडल तक भी सीमित रह सकते हैं और इसका निर्णय भी राज्यों को ही लेना है। स्थानीय प्रशासन और स्थानीय निकास केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के दिशा निर्देशों के आधार पर इन जोन का निर्धारण करेंगे।

कंटेनमेंट जोन में मेडिकल इमरजेंसी, जरूरी वस्तुओं और सेवाओं को छोड़कर किसी अन्य गतिविधि की अनुमति नहीं दी जाएगी। कोरोना के नये मामले बढने की आशंका वाले क्षेत्रों को बफर जोन में रखा जाएगा और वहां काफी अधिक सतर्कता बरती जाएगी।

दिशा निर्देशों के अनुसार चौथे चरण में भी देश भर में घरेलु तथा अंतर्राष्ट्रीय हवाई यात्रा पर प्रतिबंध रहेगा हालाकि घरेलु चिकित्सा सेवा, एयर एंबुलेंस और सुरक्षा उद्देश्यों तथा गृह मंत्रालय की अनुमति से विशेष परिस्थिति में इसकी अनुमति होगी। मेट्रो रेल सेवा, स्कूल, कॉलेज, शैक्षणिक और कोचिंग संस्थान पहले की तरह ही देश भर में बंद रहेंगे।