सिन्धु रत्न, सिन्धु नारी रत्न, सिन्धु युवा रत्न सम्मान से नवाजा

अजमेर। हिंदुस्तान के विभाजन होने के दौरान अपनी सभ्यता व संस्कृति की रक्षा के लिए जमीन-जायदाद सब कुछ का त्याग कर सिंध प्रांत से अजमेर आए हमारे सम्माननीय बुजुर्गों ने अनेक कठिनाइयों का सामना करते हुए न केवल अपने आपको स्थापित किया, अपितु अपने व्यक्तित्व व कृतित्व से सिंधी समाज का नाम रोशन किया।

यह उद्बोधन शांतानन्द उदासीन आश्रम के महंत हनुमान राम ने चेटीचण्ड महापर्व के पाचवें दिन में आयोजित रसोई बैंकवट हॉल में सिन्धु रत्न, सिन्धु नारी रत्न व सिन्धु युवा रत्न सम्मान समारोह में दिया।

इस अवसर पर प्रेम प्रकाश आश्रम दिल्ली गेट के सांई ओम प्रकाश शास्त्री, स्वामी आत्मदास, निर्मल धाम, श्रीराम दरबार की दादी मोहिनी देवी, आदर्श नगर के दादा नारायणदास व जतोई दरबार के भाई फतनदास, सांई बाबा मन्दिर के महेश तेजवाणी व रामचन्द जी ने भी आशीर्वचन प्रदान किये। कार्यक्रम में चेटीचण्ड व नवसंवत्सर पर व्याख्यान कार्यक्रम निरंजन शर्मा ने उद्बोधन दिया।

सिन्धी समाज महासमिति के अध्यक्ष कंवल प्रकाश किशनानी ने सम्मानित शखसियतों के बारे में कहा कि सम्मानित जनों ने अपने पुरुषार्थ, कड़ी मेहनत और लगन से स्वयं को स्थापित किया है। समाज को दिए आपके अविस्मरणीय योगदान को हम कभी भुला नहीं पाएंगे। आप हमारे प्रेरणा स्तंभ हैं, जिनसे पूरे समाज को ऊर्जा मिलती है। अभिनंदन करते हुए हम अपने आपको गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं।

समन्वयक गिरधर तेजवानी ने सिन्धु रत्न से सम्मानित होने वाले सभी महानुभवों का परिचय कराते हुए कहा कि समिति हर वर्ष ऐसी शखसियतों का सम्मान करती है जिनका समाज में अतिरिक्त योगदान रहता है। कार्यक्रम के प्रारम्भ में ईष्ट झूलेलाल व स्वामी हिरदाराम साहेब की प्रतिमा पर दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का आगाज किया। मंच संचालन हरी चन्दनानी ने किया व धन्यवाद कार्यक्रम संयोजक प्रेम केवलरमानी ने दिया। के.जे. ज्ञानी ने गीत प्रस्तुत किया।

इनको मिला सम्मान

कुशल व्यवसायी छांगोमल गागूमल जेठानी व चन्दीराम नारूमल भोजवानी, प्रतिष्ठित एनआरआई हीरानन्द गनोमल गुलाबानी को, समाजसेवी पुरुषोत्तम नारायणदास गिदवानी, कुशल लेखाविज्ञ पारस टहलराम भागचन्दानी, थैलेसिमिया ग्रसित बच्चों की सेवा में अग्रणी ईश्वर मोरमल पारवानी, कुशल प्रशासनिक अधिकारी किशोर कुमार आरएएस, चिकित्सक डॉ. भरत तन्नुमल छबलानी, कारपोरेट क्षेत्र में अग्रणी आरडी ठारवाणीं को सिन्धु रत्न, दिव्यांग होते हुए भी औद्योगिक व समाज सेवा के क्षेत्र में अग्रणी कुमारी बिमला नानकराम नागरानी को सिंधु नारी रत्न सम्मान और युवा उद्यमी राहुल भगवानदास हरवानी को सिंधु युवा रत्न सम्मान।

इस अवसर पर राजस्व मण्डल के उपप्रबन्धक सुरेश सिन्धी, भगवान कलवाणी, महेन्द्र कुमार तीर्थाणी, जगदीश अबिचंदाणी, राधाकिशन आहूजा, जीडी वृदांणी, रमेश टिलवाणी, जगदीश भाटिया, हरीश गिदवाणी, नवलराय बच्चाणी, नारायणदास चन्दा थदाणी, नीलम केवलरमाणी महेश तेजवाणी, मोहन तुलसियाणी, कमलेश शर्मा, केजे ज्ञानी, खेमचन्द नारवाणी, भगवान साधवाणी, जयकिशन लख्याणी, महेश टेकचंदाणी, गोविन्द जैनाणी, अनिता शिवनाणी,,दिशा किशनाणी, प्रियंका किशनाणी, नरेश रावलाणी, दौलत लौंगाणी कमल लालवाणी, हरीश खेमाणी, नारी वाघाणी, दीपक चन्दनाणी आदि उपस्थित रहे।

15 मार्च को सामुदायिक भवन मधुबन कॉलोनी में भंडारा

कार्यक्रम संयोजक हरीश केवलरमाणी ने बताया कि चेटीचण्ड पखवाड़े के छठे दिन गुरूवार 15 मार्च को सिन्धियत जी सुहिणी शाम, बहिराणा और आम भण्डारा शाम 6 बजे सामुदायिक भवन मधुबन कॉलोनी में सिन्धी सोशल वेल्फेयर सोसायटी नाका मदार में आयोजित किया जायेगा।