सिन्धु मातृ शक्ति महारानी लाडीबाई कार्यक्रम में महिलाओं ने दिखाया उत्साह

अजमेर। चेटीचण्ड महोत्सव के चौथे दिन भारतीय सिन्धु सभा अजयनगर ईकाई द्वारा मातृशक्ति के सहयोग से महारानी लाडी बाई के जीवन से प्रेरणा लेकर सांस्कृतिक कार्यक्रम पार्वती उद्यान में आयोजित किया गया।

कार्यक्रम संयोजक सुनीता रमेश लखाणी व सुनीता भागचन्दाणी ने बताया कि पूरा कार्यक्रम महिलाओं को समर्पित करते हुए इस कार्यक्रम में स्थानीय पार्षद हेमलता खत्री मुख्य अतिथि थी।

हेमलता खत्री ने कहा कि मातृशक्ति ही संस्कारों की देवी है जो संत, सती व सूर है। अजमेर में महाराजा दाहरसेन स्मारक पर महारानी लाडी ब्ाई के जीवन का चित्रण किया गया है उनसे प्रेरणा लेकर महिलाओं को समाज में कार्य करना चाहिए।

कार्यक्रम की प्रस्तुति देते हुए घनश्याम भगत एण्ड पार्टी व मुस्कान कोटवाणी ने ठार माता ठार…, महिमा आ न्यारी सांई…, मन मां कढी विकार… की प्रस्तुतियों पर सभी को झुमाया।

सपना वलीरामाणी ने बताया कि समारोह में बाल संस्कार शिविर में तैयार हुए विद्यार्थियों ने ईष्टदेव झूलेलाल, महारानी लाडीबाई, संत कवरराम सहित अलग अलग संतों की मनमोहक प्रस्तुतियां दी।

सभा के राष्ट्रीय मंत्री महेन्द्र कुमार तीर्थाणी ने कहा कि सभा की ओर से पूज्य सिन्धी पंचायत, सामाजिक संगठनों की ओर किए गए आयोजन व स्वागत से युवा पीढी को प्रेरणा मिली है जिसे निरंतर बढाया जाएगा।

पखवाडा के अध्यक्ष कंवलप्रकाश किशनानी ने कहा कि देश दुनिया में हो रहे कोराना वायरस का प्रकोप समाप्त हो और सभी स्वस्थ व प्रसन्न रहे। चेटीचण्ड की शुभकामना देते हुए कहा कि समाज से बढकर राष्ट्र है।

कार्यक्रम में मनीष ग्वालाणी, नरेन्द्र बसराणी, महेश टेकचंदाणी, प्रचार मंत्री रमेश वलीरामाणी राम केसवाणी, वासदेव बच्चाणी, गुल छताणी, भगवान पुरसवाणी, ख्यालदास मंगलाणी रमेश बालाणी, ललित चांदवाणी विनेाद बच्चाणी, अनिल गोलाणी, नरेश टिलवाणी, ताराचन्द, गुरूमुख संगठन मंत्री मोहन कोटवाणी ने योगदान दिया।

समारोह समिति के पूर्व पार्षद मोहन लालवाणी, प्रकाश जेठरा, जयकिशन लख्याणी, हरीकिशन टेकचंदाणी, कन्हैयालाल खानचंदाणी, मनोहर मोटवाणी, नानक गजवाणी सहित पदाधिकारी उपस्थित थे।