वायरल आॅडियो के बाद गोपालन मंत्री और जिला प्रमुख का राजनीतिक अंतरद्वंद्व हुआ सार्वजनिक

otaram dewasi and payal parasrampuriya
otaram dewasi and payal parasrampuriya

सबगुरु न्यूज-सिरोही। एक पखवाडे से सिरोही के राजनीतिक हलकों में सनसनी फैलाने वाला आॅडियो आखिरकार मंगलवार को पूरी तरह से सार्वजनिक हो गया। इसके बाद गोपालन मंत्री ओटाराम देवासी और भाजपा की जिला प्रमुख पायल परसरामपुरिया के बीच आगामी विधानसभा चुनावों में टिकिट को लेकर प्रतिद्वंद्वता सार्वजनिक हो गई। ये आॅडियो कथित रूप से गोपालन राज्यमंत्री ओटाराम देवासी का बताया जा रहा है।

वैसे ये आॅडियो एक सामान्य वार्तालाप ही है, लेकिन इसकी शुरूआत में जो असंसदीय भाषा वाला राजस्थानी मुहावरा उपयोग में लिया गया है वह किसी धार्मिक व्यक्ति के मुंह से शोभा नहीं देता। इस मुहावरे के अलावा शेष वार्तालाप सामान्य है। आॅडियो में देवासी की आवाज साफ आ रही है, लेकिन उनसे बात करने वाले दूसरे व्यक्ति की आवाज बिल्कुल भी स्पष्ट नहीं है। देवासी ने इस आॅडियो में अपनी आवाज होने से इनकार किया है।
इस मे कथित गोपालन राज्यमंत्री की आवाज वाला व्यक्ति यह बता रहा है कि जिला प्रमुख और उनके पति अरूण परसरामपुरिया सिरोही विधानसभा का टिकिट लाने को प्रयासरत हैं। इस आॅडियो के अनुसार सिरोही जिले के प्रभारी मंत्री राजेन्द्र राठोड भी उनका सहयोग कर रहे हैं। इतना ही नहीं आॅडियो के अनुसार जिले के प्रभारी सचिव तो जिला कलक्टर के समक्ष पायल परसरामपुरिया को भावी विधायक होने की बात तक कह चुके हैं।
-फिलहाल राजनीतिक लाभ-हानि से बेअसर आॅडियो
ये आॅडियो जिस तरह से जारी हुआ है, उससे यह स्पष्ट है कि इसे एक पक्ष के करीबियों ने राजनीतिक लाभ या हानि का गणित बैठाते हुए किया है। वर्तमान में विधानसभा चुनावों में नौ महीने और टिकिट वितरण में आठ महीने बाकी हैं, ऐसे में इस समय इस तरह का आॅडियो जारी करना मूल रूप से ऐसे आॅडियो के मकसद की भ्रूण हत्या ज्यादा है। चुनाव आने तक ऐसे कई आॅडियो-वीडियो जारी होने की संभावना हैं। लेकिन, इससे यह तय है कि टिकिट लेने के लिए जिले में नेता हर स्तर तक गिरने को तैयार हैं।