CM राजे के इन दो इशारो ने ला दिया सिरोही का बडा राजनीतिक भूचाल

सिरोही मे जनसभा के दौरान जिला प्रमुख पायल परसरामपुरिया के कंधे पर हाथ रखकर खडी मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे।
सिरोही मे जनसभा के दौरान जिला प्रमुख पायल परसरामपुरिया के कंधे पर हाथ रखकर खडी मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे।

सबगुरु न्यूज-सिरोही। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की सिरोही शहर की राजस्थान गौरव यात्रा के दौरान गुरुवार को दो बुलावों ने तो सिरोही की राजनीति में ही हड़कम्प मचा दिया। इसने भाजपा के जिले के कई टिकिट के आकांक्षी नेताओं के सपनों पर तुषारापात कर दिया।

मुख्यमंत्री ने अपने भाषण के दौरान कांग्रेस नेताओं द्वारा महिलाओं के उंचे पद पर होने काम नहीं कर पाने की कथित टिप्पणियां किए जाने को गलत ठहराने के लिए मंच पर भाषण के दौरान सिरोही जिला प्रमुख पायल परसरामपुरिया को आवाज देकर अपने पास बुलवा लिया।

इससे पाण्डाल में बैठे भाजपा के नेताओं और सिरोही की जनता को लगने लगा कि वह पायल परसरामपुरिया को यहीं सिरोही विधानसभा की प्रत्याशी घोषित कर रही हैं। पायल परसरामपुरिया उन तक पहुंचती तब तक पाण्डाल के एक कोने से ओटाराम देवासी तुम संघर्ष करो हम तुम्हारे साथ हैं, के नारे गूंजने लगे।

पायल परसरामपुरिया जैसे ही उनके पास पहुंची तो उन्होंने उनके कंधे पर हाथ रखते हुए कहा कि क्या आप इनके काम से खुश हैं। इतने में पाण्डांल से जोर से उनके समर्थन में हां की आवाजें आने लगी। इसके बाद तो जैसे वहां पर पायल परसरामपुरिया को ही सिरोही विधानसभा की भावी प्रत्याशी मानने की चर्चा चल पड़ी।
दूसरा घटना क्रम पाण्डाल से अपने रथ में चढ़ने के बाद हुआ। गौरव रथ पर चढते ही राजे कई लोगों से मिली। इसी दौरान देवासी समाज के लोग भी उन्हें देवनारायण छा़त्रावास विद्यालय के लिए भूमि और पैसा देने केे लिए धन्यवाद देने पहुंचे। मुख्यमंत्री ने उन्हें कहा कि आजकल कोई काम करने पर धन्यवाद नहीं देता है और आप तो धन्यवाद दे रहे हैं, मैं इसे स्वीकार कर रही हूं।

इस पर देवासी समाज के लोग नारे लगाने लगे की ओटारामजी आगे बढ़ो हम तुम्हारे साथ हैं। इतने में मुख्यमंत्री ने माइक पर बोल दिया कि अरे ठीक है रखो अपने नेता को अपने ही पास। एक के बाद एक दो ऐसी घटनाओं ने जहां पायल समर्थकों में जोश भर दिया वहीं ओटाराम देवासी के समर्थक कुछ सशंकित हो गए।

शाम को भाजपा के कार्यकर्ता भी इन दोनों घटनाओं को आगामी विधानासभा चुनावों में सिरेाही विधानसभा क्षेत्र में टिकिट की स्थिति स्पष्ट मानने लगे। चैराहों पर इसकी चर्चाएं होने लगी। वहीं शेष आशार्थी यह कहते हुए अपनी दावेदारी मजबूत बताने लगे कि यह इत्तेफाक है, टिकिट तो वही लाने वाले हैं।

सिरोही में इस चर्चा के पीछे मुख्य वजह यह है कि आम तौर वसुंधरा राजे चुनाव पूर्व सभाओं में उनके घोषित प्रत्याशियों को ही बुलवाती है। वैसे मंच पर उन्होंने पायल परसरामपुरिया से पहले महंत जी से संबंोधित करते हुए ओटाराम देवासी को भी अपने पास बुलवाया था, लेकिन उन्हें पास बुलवाने के दौरान बत्तीसा नाला और एक सड़क के मामले में कार्य प्रगति पर नहीं होने पर शिकायती लहजे में उन्होंने यह भी कहा कि आपने इन कामों पर ध्यान नहीं दिया।

सिरोही कांग्रेस ने दिखाया CM राजे को आईना, नाराज CM ने बैठा दी जांच

payal parasrampuriya
payal parasrampuriya