मिलकर लिखेंगे राजस्थान के विकास का सुनहरा अध्याय:राजे

सिरोही के अरविंद पेवेलियन में राजस्थान गौरव यात्रा में योजनाओं और कार्यक्रमों का शिलान्यास करती मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे।
सिरोही के अरविंद पेवेलियन में राजस्थान गौरव यात्रा में योजनाओं और कार्यक्रमों का शिलान्यास करती मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे।

सबगुरु न्युज-सिरोही। मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे ने कहा है कि प्रदेश की जनता के सहयोग से आने वाले समय में राजस्थान के विकास का सुनहरा अध्याय लिखा जाएगा। उन्होंने कहा कि हमने 36 कौमों को साथ लेकर चलने का संकल्प लिया है कि राजस्थान को अग्रणी बनाएंगे। इस पर जनसमूह ने हाथ खडे़ कर अपनी सहमति जताई।  राजे गुरूवार को सिरोही के पेवेलियन स्टेडियम में विकास कार्याें के लोकार्पण, शिलान्यास एवं जनसमूह के साथ संवाद कार्यक्रम को सम्बोधित कर रही थीं।

उन्होंने कहा कि जनता के कार्याें में राजनीति नहीं होनी चाहिए। हर सरकार की जिम्मेदारी होती है कि वह जनता के कायोर्ं को बिना भेदभाव पूरा करें। हमने जनता के बताए कार्याें को पूरी ईमानदारी और इच्छाशक्ति से पूरा करने की कोशिश की है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि लोकतांत्रिक व्यवस्था में कई मुख्यमंत्री आते-जाते रहते हैं लेकिन वे ऎसी पहली मुख्यमंत्री हैं जिन्होंने विकास कायोर्ं की घोषणाएं कर उन्हें पूरा किया और आज वे जनता के बीच जाकर इन कार्यों का पूरा लेखा-जोखा भी रख रही हैं।

उन्होंने कहा कि  बत्तीसा नाले की भूमि अवाप्ति एवं वन विभाग से एनओसी का कार्र्य पूरा हो चुका है। इसके कार्यादेश आगामी 10 सितम्बर को जारी कर दिए जाएंगे। इससे 31 गांवों एवं 2 शहरों को पेयजल आपूर्ति एवं 1000 हेक्टेयर में सिंचाई होगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने कहा कि जावाल-कैलाशनगर-हरिनगर की 10 किमी सड़क का टेण्डर जारी हो गए हैं और 20 सितम्बर तक कार्य प्रारम्भ हो जाएगा। सिरोही-कालंदरी-रामसिंह सड़क पर 14 करोड़ की लागत से 40 पुलियाओं की चौड़ाई बढाने का काम किया है।  17 करोड़ की लागत से 14 किलोमीटर की आबू – अम्बाजी माता सड़क का काम प्रारम्भ हो चुका है। 23 करोड़ की लागत से 19 किमी सांचोर -मण्डार -आबू रोड सड़क का कार्य भी प्रगति पर है।

उन्होंने कहा कि अम्बरेश्वर जी एवं आलपा माता की सड़क निर्माण के कार्य को पूरा किया जाएगा। बाली-पिण्डवाडा की 61 किलोमीटर सड़क का निर्माण कार्य 142 करोड़ रु की लागत से किया जा रहा है। वहीं ब्यावर-पाली-पिण्डवाड़ा 224 किमी के एनएच का निर्माण 2472 करोड़ रु की राशि से पूरा हो चुका है। राजे ने मंच पर राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम से लाभान्वितों को जनता से रूबरू कराते हुए कहा कि सरकार की इस योजना से बच्चों के ह्दय में छेद जैसी गंभीर बीमारी का नामचीन अस्पतालों में निःशुल्क इलाज संभव हुआ है।

राजे ने इस अवसर पर पांच लाभार्थियों को मोटराइज्ड टाइसाइकिल प्रदान की एवं सभा स्थल पर लगाई गई विकास प्रदर्शनी का उद्घाटन कर अवलोकन किया। मंच पर युवाओं के संगठन ने केरल के बाढ़ पीडितों की सहायतार्थ 31 हजार रु की राशि भेंट की। मुख्यमंत्री ने राज्य एवं केन्द्र सरकार की लोककल्याणकारी योजनाओं पर आधारित पुस्तक विकास धारा का विमोचन भी किया।

48 करोड़ के कायोर्ं का लोकार्पण एवं शिलान्यास

उन्होंने इस अवसर पर करीब 48 करोड़ रु के विकास कार्याें का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। जिनमें शहरी पेयजल पुनर्गठित जल वितरण योजना, शिवगंज, उप स्वास्थ्य केन्द्र अखापुरा एवं सेउडा का लोकार्पण एवं जावाला-शिवगंज सड़क किमी 9/0 से 27/0 कुल 18  किमी का चौड़ाईकरण एवं सुदृढ़ीकरण कार्य, ग्रामीण गौरव पथ चतुर्थ चरण में सिरोही विधानसभा क्षेत्र के अन्तर्गत 12 सीसी सड़क निर्माण कार्य, पाईप्ड संवर्धन योजना, गोयली तथा कृषि गौण मण्डी प्रांगण सिरोही, देवनारायण आवासीय विद्यालय कोलर (पालड़ी, एम) का शिलान्यास शामिल है।

हर महिला सशक्त, हर महिला मुख्यमंत्री

राजे ने कहा कि आज प्रदेश की महिला सशक्त है और अपने-अपने क्षेत्र में अच्छा का कर रही है। आज हर महिला अपने-अपने क्षेत्र में मुख्यमंत्री है। हमारी सरकार ने महिलाओं को आगे बढाने के लिए भामाशाह योजना द्वारा परिवार की मुखिया बनाया और आज इन मुखिया के खातों में कुल 21 हजार करोड़ रु की राशि जमा है।

यह विश्व की सबसे बडी प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण योजना है। मुख्यमंत्री ने कहा कि दुष्कर्मियों को फांसी की सजा के लिए मार्च 2018 में प्रदेश में कानून पारित किया गया जिस पर अप्रेल माह में केन्द्र से मंजूरी मिली। उन्होंने कहा कि राज्य में पहली बार  दो मामलों में 42 दिन और छह माह में अपराधियों को फांसी की सजा तक पहुंचाया गया है। उन्होंने चेतावनी दी कि ऎसे जघन्य अपराध करने वालों को छोड़ा नहीं जाएगा।

-लगभग चालीस लाख युवाओं को रोजगार से जोड़ा

राजे ने कहा कि अब तक राज्य में सैकड़ों आईटीआई खोलकर युवाओ को रोजगार का पर्र््रशिक्षण प्रदान किया गया। रोजगार मेलों के जरिए ऎसे करीब 15 लाख युवाओं को रोजगार से जोड़ा गया है। इसी प्रकार प्रधानमंत्री मुद्रा योजना में 44 लाख युवाओ को रोजगार ऋण प्रदान किया गया है। इनमें से करीब 20 लाख लोगों ने स्वरोजगार प्रारम्भ किया है। इसी तरह सरकारी क्षेत्र में 3 लाख 25 हजार नौकरियां प्रदान करने का काम किया गया है।

payal parasrampuriya
payal parasrampuriya