सिरोही हवाई पट्टी पर उतरी पांच साल पहले वाली वसुंधरा राजे

sirohi, vasundhara raje, air strip, otaram dewasi
Cm vasundhara reje on red carpet at sirohi air strip

सबगुरु न्यूज-सिरोही। पाली जिले में सोमवार से शुरू हो रहे सरकार आपके द्वार कार्यक्रम की शुरूआत करने जाने के लिए मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने सोमवार को सिरोही हवाई पट्टी पर ट्रांजिट पास किया। जयपुर से यहां राजकीय विमान से हवाई पट्टी पर उतरी और वहीं से हेलीकाॅप्टर से चार दिवसीय कार्यक्रम के लिए पाली जिले के फालना के लिए रवाना हो गइ। इस बार फिर उनके चेहरे पर 2013 विधानसभा चुनाव से पूर्व की वसुंधरा राजे वाली मुस्कान और अपनापन तो था, लेकिन हवाई पट्टी पर भाजपाइयों की संख्या उस समय की दस प्रतिशत भी नहीं थी।
मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सोमवार को मुख्यमंत्री के रूप मे पहली बार स्थानीय कार्यकर्ताओं व पदाधिकारियों के प्रति इतनी सहज, हंसमुख और मित्रता वाले अंदाज में मिलती दिखी। इससे पहले साढे चार सालों में जब भी वह मुख्यमंत्री के रूप में यहां पहुंची पदाधिकारियों को अव्वल तो हवाई पट्टी पर जाने की इजाजत ही नहीं दी जाती थी।

आज स्वच्छंद रूप से पदाधिकारी हवाई पट्टी पर भी गए और हवाई पट्टी पर मुख्यमंत्री ने किसी से मुस्कुराकर, किसी के कंधे पर हाथ रखकर तो किसी के सिर पर हाथ रखकर अपणायत दिखाने की कोशिश की। यह अपणायत सुराज संकल्प यात्रा के बाद भाजपा के पदाधिकारियों ने शायद ही कभी देखी थी।

मुख्यमंत्री का यह अंदाज एक तरह से चुनाव पूर्व नाराज भाजपाइयों को मनाने की कोशिश के रूप में भी देखी जा रही है। अन्यथा इससे पहले के चार दौरों में तो वह भाजपाइयों के अलावा स्थानीय जनता से भी दूर ही रहीं। यही कारण था कि चुनाव पूर्व के सोमवार के अल्पप्रवास के दौरान भाजपाइयों और स्थानीय जनता में भी उनके आगमन को लेकर कोई उत्साह नहीं दिखा।

sirohi, vasundhara raje, airstrip
plastic mug tide with plastic cord at sirohi airstrip during cm vasundhara raje transit pass

-मुख्यमंत्री का आगमन, वीआईपी की मौजूदगी फिर भी रस्सी से बांधे पानी के लोटे
लम्बे अर्से से व्हाट्स एप और फेसबुक पर देशवासियों की ईमानदारी की तुलना करते हुए ट्रेन के टाॅयलेट के डिब्बे चेन से बंधे होने का व्यंग्य वायरल होते रहे हैं। माना जाता है कि प्रधानमंत्री को ज्यादा ईमानदार दिखाने के लिए ये व्यंग्य भाजपा मीडिया सेल की ओर से तैयार किया गया था।

आज ऐसे ही रस्सी से बंधे हुए डिब्बों ने उन्हीं की पार्टी के नेताओं को हंसी का पात्र बना दिया था। मुख्यमंत्री के आगमन से पूर्व हवाई पट्टी पर प्लास्टिक की रस्सी से बंधे हुए प्लास्टिक के डिब्बे सिरोही भाजपा के प्रमुख नेताओं पर व्यंग्य से कम नहीं थे। बाद में व्यंग्यात्मक अंदाज में यह बात गोपालन राज्यमंत्री ओटाराम देवासी को कही गई तो उन्होंने डिब्बों पर बंधी हुई डोरियों को खुलवाया।
मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का सोमवार से पाली जिले में चार दिवसीय सरकार आपके द्वार कार्यक्रम का आगाज है। इसकी शुरूआत वो फालना क्षेत्र से करने वाली हैं। वहां जाने के लिए जयपुर से बडे विमान से वह सिरोही आईं और यहां से हेलीकाॅप्टर से वे फालना के लिए रवाना हुई। उनके आगमन की पूर्व तैयारियां की गई। वहां आने वाले भाजपा नेताओं व अधिकारियों के लिए पानी के केन रखवाए गए।

sirohi, vasundhara raje, otaram dewasi
Phed emplotee cut the cord from mug at sirohi airstrip

इन केन पर प्लास्टिक के डिब्बे पानी पीने के लिए रखे गए। इन प्लास्टिक के डिब्बों को प्लास्टिक की रस्सियों से केन से बांधा हुआ था। यह देखकर वहां लोग चुटकी लेने लगे की जिले के भाजपा के वीआईपी लोग यहां आ रहे हैं, उनसे प्लास्टिक के डिब्बे तक सुरक्षित नहीं हैं। इस मुद्दे को लेकर व्यंग्य चलता रहा, इस बीच सिरोही विधायक व गोपालन राज्यमंत्री ओटाराम देवासी भी वहां पहुंचे तो कुछ पत्रकारों ने इस बात पर चुटकी ले ली।

लोटे को प्लास्टिक की डोरी से बंधा हुआ देखकर पहले तो वो मुस्कुराए और फिर उन्होंने वहां मौजूद कार्मिकों को लोटों से बंधी हुई डोरियां खोलने को कहा। तब जाकर लोटे डोरी के बंधन से आजाद हो पाए। वैसे कार्मिकों का कहना था कि उन्होंने इन लोटों को इसलिए बांधा था कि कोई इसे उठाकर इधर-उधर नहीं रख दे जिससे दूसरे लोगों को पानी पीने में दिक्कत आए। लेकिन उनकी यह सोच भाजपाइयों को व्यंग्य का पात्र बना गई।

sirohi, vasundhara raje, otaram dewasi
Cm vasundhara raje talking with otaram dewasi before take off to falna

-निर्धारित समय से डेढ घंटा देरी से पहुंची
मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का सिरोही हवाई पट्टी पर आने का निर्धारित कार्यक्रम सवेरे करीब सवा दस बजे का था। वह निर्धारित समय से करीब डेढ घंटा देरी से 11.44 बजे वहां पर पहुंची। यहां पहुंचते ही आईजी हवासिंह घुमरिया, गोपालन राज्यमंत्री ओटाराम देवासी, विधायक जगसीराम कोली, पिण्डवाडा विधायक समाराम गरासिया, रानीवाडा विधायक नारायणसिंह देवल, पुलिस अधीक्षक ओमप्रकाश, कार्यवाहक जिला कलक्टर आशाराम डूडी, जिला प्रमुख पायल परसरामपुरिया, यूआईटी आबूरोड अध्यक्ष सुरेश कोठारी, विधानसभा की पूर्व उपाध्यक्ष तारा भंडारी आदि ने उनका अभिनन्दन किया।

यहां उन्हें रेड कार्पेट पर गार्ड आॅफ आॅनर दिया गया। फिर कतारबद्ध खडे भाजपा जनप्रतिनिधियों व पदाधिकारियों ने उनका अभिनन्दन किया। इस दौरान भाजपा के सिरोही सभापति ताराराम माली, आबूरोड नगर पालिकाध्यक्ष सुरेश थिंगर, सिरोही प्रधान पद्मा कंवर, भाजपा जिलाध्यक्ष लुम्बाराम चौधरी, पूर्व जिलाध्यक्ष नारायण पुरोहित, भाजयुमो जिलाध्यक्ष हेमंत पुरोहित, दिलीपसिंह मांडाणी, पूर्व महामंत्री विरेन्द्रसिंह चैहान, शिवगंज ग्रामीण मंडल अध्यक्ष गणपतसिंह,अशोक पुरोहित, भाजयुमो नेता गणपतसिंह, हेमलता पुरोहित, दमयंती डाबी, नंदा डगला, लोकेश खंडेलवाल समेत डेढ दर्जन भाजपा जनप्रतिनिधियों व पदाधिकारियों ने माल्यार्पण एव पुष्पगुच्छ अर्पित करके उनका अभिनन्दन किया।

इस दौरान सिरोही डीएफओ संग्रामसिंह, माउण्ट आबू डीएफओ हेमंतकुमार, एएसपी प्यारेलाल मीणा, माउण्ट आबू एसडीएम सुरेश ओला, डीएसपी भवानीसिंह समेत संपूर्ण पुलिस और प्रशासनिक अमला व्यवस्थाओं में लगा हुआ था।
-देवासी से ली सिरोही में कार्यो की प्रगति की जानकारी
मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने हवाई जहाज से उतरने के बाद गार्ड आॅफ आॅनर स्थल पर आते हुए रेड कार्पेट पर ओटाराम देवासी से सिरोही में बत्तीसा नाला और आबूरोड में रेलवे ओवरब्रिज के कार्य की प्रगति की जानकारी ली। आबूरोड में आरओबी के निर्माण के लिए भूमि अधिग्रहण की जानकारी उन्हें दी गई।

इस उन्होंने अधिग्रहित की जाने वाली भूमि के मालिक रघुवीरसिंह देवडा द्वारा भूमि नहीं दिए जाने पर आश्चर्य भी जताया। बाद में इसी तरह भूमि अधिग्रहण की जानकारी आबूरोड पालिकाध्यक्ष ने भी दी। जिला प्रमुख पायल परसरामपुरिया ने मुख्यमंत्री को डीएमएफसी फंड से रेवदर महाविद्यालय भवन के लिए दो करोड रुपये तथा पिण्डवाडा के राजकीय काॅलेज के भवन निर्माण के लिए एक करोड रुपये जारी करने की जानकारी दी।
-फजीहत से बचने को पहले ही नहीं आए भाजपाई
मुख्यमंत्री के सिरोही हवाई पट्टी पर आगमन को लेकर प्रशासन को पहले ही यह निर्देश थे कि वहां पर ज्यादा भीड एकत्रित नहीं होवे। इसे लेकर रविवार को ही भाजपा जिलाध्यक्ष से हवाई पट्टी पर जाने वाले नेताओं की सूची मांगी गई। पहले सिर्फ छह लोगों को ही हवाई पट्टी पर जाने की चर्चा थी।

सूत्रों के अनुसार भाजपा जिलाध्यक्ष लुम्बाराम चैधरी ने अपने अनुसार सूची भेजी, लेकिन उनकी टीम के नहीं जाने पर स्वयं भी हवाई पट्टी पर नहीं जाने की बात कही। ऐसे में प्रशासन ने हवाई पट्टी पर जाने वाले नेताओं की संख्या तो बढाई, लेकिन कई भाजपाई फजीहत से बचने के लिए पहले ही मुख्यमंत्री के आगमन के कार्यक्रम के कन्नी काटते दिखे।

कुछ लोग लगातार भाजपा के दूसरे पदाधिकारियों को फोन करते रहे, लेकिन यह पदाधिकारी भी फोन उठाने से कतराते रहे। ऐसे में एक पदाधिकारी ने तो यह भी बात कही कि मुख्यमंत्री सिर्फ सूची बद्ध भाजपाइयों से ही मिल रही हैं तो क्या चुनाव भी इन्हीं सूची बद्ध लोगों से जीतेंगी।

वैसे हवाई पट्टी पर भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष नंदा डगला को फिर प्रशासन से दो चार होना पडा। सीएम के आगमन पर प्रशासनिक अधिकारी उन्हें भी गार्ड आॅफ आॅनर स्थल से हटा रहे थे। बाद में इस बात को लेकर उन्होंने जिलाध्यक्ष से नाराजगी भी जताई।

इधर, भाजपा से उपेक्षित कर दिए गए पूर्व मीडिया प्रवक्ता लोकेश खंडेलवार भी हवाई पट्टी पर सीएम से मिलने वाले भाजपाइयों में शामिल थे। जिलाध्यक्ष ने उन्हें पार्टी मीडिया सेल से जुडा हुआ बताया तो सीएम ने उन्हें मीडिया का कार्य ढंग से देखने को कहा।