पेनोरमा के माध्यम से गौरवशाली इतिहास को संरक्षित किया : सीएम राजे

cm vasundhara raje inaugurates panorama of lok devta pabuji rathore in jodhpur
cm vasundhara raje inaugurates panorama of lok devta pabuji rathore in jodhpur

जोधपुर। मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने कहा कि हमारी सरकार ने पेनोरमा निर्माण के माध्यम से सभी जाति एवं समाज के अराध्य लोक देवी-देवताओं तथा महापुरूषों की गौरव गाथाओं को संरक्षित करने का अभूतपूर्व काम किया है। पूरे प्रदेश में करीब 140 करोड़ की लागत से 46 पेनोरमा बनाए जा रहे हैं, इनमें से कई पेनोरमा का काम तो पूरा भी हो चुका है।

राजे शुक्रवार को जोधपुर जिले की कोलू पाबूजी ग्राम पंचायत में लोक देवता पाबूजी के पेनोरमा के लोकार्पण समारोह को सम्बोधित कर रही थीं। मुख्यमंत्री ने कहा कि वीरता, गौसेवा, शरणागत की रक्षा तथा नारी सम्मान जैसे महान गुणों के कारण पाबूजी सभी समाज के लोगों के अराध्य हैं। उन्होंने कमजोरों को उनका हक दिलाने की लड़ाई लड़ी। गायों से भी उन्हें विशेष प्रेम था।

पाबूजी की महिमा, उनके व्यक्तित्व तथा जन आस्था की कहानियों को संरक्षित करने के लिए हमारी सरकार ने पाबूजी के पेनोरमा का निर्माण कराया है। करीब 1.56 करोड़ रूपए की लागत से बने इस पेनोरमा से उनके जीवन दर्शन और सिद्धांतों से श्रद्धालु परिचित हो सकेंगे।

Pabuji is a folk-deity of Rajasthan in India
Pabuji is a folk-deity of Rajasthan in India

राजस्थान धरोहर संरक्षण एवं प्रोन्नति प्राधिकरण, राजस्थान सरकार द्वारा जोधपुर जिले के कोलू पाबूजी में बनाए गए लोक देवता पाबूजी पनोरमा का राजे द्वारा लोकार्पण कोलू पाबूजी में सार्वजनिक समारोह में किया गया।

महापुरुषों, सन्त-महात्माओं और लोकदेवताओं के जीवन, शिक्षा-उपदेशों, उनके व्यक्तित्व और कृतित्व से जन सामान्य को रूबरू कराने के लिए प्राधिकरण द्वारा बनाए गए पनोरमा की कड़ी में दसवें पनोरमा का लोकार्पण हुआ।

राजे ने कहा कि राजस्थान देष का पहला ऐसा राज्य है जिसने गोपालन विभाग स्थापित किया। उन्होंने कहा कि गोशालाओं के संरक्षण तथा विकास और गायों के चारे के लिए एक हजार करोड़ रूपए मंजूर किए साथ ही ऊंट को संरक्षित करने का भी काम किया। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर पाबूजी की अश्व पर सवार आदमकद प्रतिमा का अनावरण किया। गनमेटल से बनी यह प्रतिमा करीब 20 फीट ऊंची है।

’राजस्थान धरोहर संरक्षण एवं प्रोन्नति प्राधिकरण के अध्यक्ष ओंकार सिंह लखावत के मार्गदर्शन एवं प्रमुख शासन सचिव, कला एवं संस्कृति विभाग कुलदीप रांका के निर्देशन में बनाया गया है। प्राधिकरण के मुख्य कार्यकारी अधिकारी टीकम बोहरा ने इस पेनोरमा की पटकथा लेखन और डिस्प्ले प्लान बनाने का कार्य किया।

प्राधिकरण के सदस्य कंवल प्रकाश किशनानी के परामर्श से अजमेर की प्रिंट आईडिया फ़र्म के सैयद जमालुद्दीन ने पनोरमा में डिस्प्ले हेतु बैकग्राउंड बनाने का कार्य किया। पनोरमा भवन का निर्माण कार्य प्राधिकरण के अधिशाषी अभियन्ता सुरेश स्वामी के निर्देशन में सहायक अभियन्ता यासीन मोहम्मद द्वारा कराया गया।

इस पनोरमा में 2 डी फ़ाइबर पेनल 3 डी फ़ाइबर मूर्तिया मेसर्स तनवंगी मूर्ति क्रियेसंस जयपुर के लक्ष्मीकान्त भारद्वाज द्वारा बनाई गई। प्राधिकरण के सदस्य हुसैन खान एवं भेरू लाल गुर्जर ने पनोरमा के लोकार्पण की तैयारी में भागीदार रहे।

इस अवसर पर केन्द्रीय कृषि एवं कृषक कल्याण राज्यमंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत, वन एवं पर्यावरण मंत्री गजेन्द्र सिंह खींवसर, राजसिको के अध्यक्ष मेघराज लोहिया, राज्यसभा सांसद मदनलाल सैनी, नारायण पंचारिया, विधायक अशोक परनामी, पब्बाराम, राजस्थान पशुपालक बोर्ड के अध्यक्ष गोवर्धन लाल राईका, सरपंच सुमेरा राम भील सहित बडी संख्या में जनप्रतिनिधि भी मौजूद थे।

जोधपुर : लोकदेवता श्री पाबूजी