प्रदेश में लाखों लोगों को मिला योजनाओं का लाभ : वसुंधरा राजे

CM vasundhara raje jan samvad at nohar in hanumangarh
CM vasundhara raje jan samvad at nohar in hanumangarh

हनुमानगढ़। राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने कहा है कि गत साढ़े चार वर्ष में राज्य में लाखों जरूरतमंद लोगों को सरकार की योजनाओं का लाभ मिला है।

राजे आज हनुमानगढ़ के नोहर में लोगों से जनसंवाद में यह बात कही। उन्होंने कहा कि इस दौरान बड़ी संख्या में लाभार्थियों ने राज्य और केन्द्र सरकार की दो या दो से अधिक योजनाओं का लाभ भी उठाया है। प्रदेश के सभी जिलों से करीब दो लाख लाभार्थियों के जयपुर में गत सात जुलाई को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जनसंवाद में पहुंचने से इसकी पुष्टि हुई है।

उन्होंने कहा कि प्रदेश के लोगों को अब से पहले ना तो इतनी बेहतर चिकित्सा सुविधाएं मिलीं थी और न ही स्वास्थ्य एवं चिकित्सा पर इतना व्यय किया गया था। उन्होंने कहा कि आमजन तक चिकित्सा सुविधाओं की सुलभता बढ़ाने के लिए विशेष प्रयास किए हैं। इस वर्ष देश में कुल 13 नए मेडिकल कॉलेज शुरू किए जाने हैं, जिनमें से सात राजस्थान में खुल रहे हैं।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत 24 लाख लोगों को बेहतर चिकित्सा सुविधाएं और नि:शुल्क इलाज उपलब्ध कराया गया है। इसमें हनुमानगढ़ जिले के लाभार्थियों की संख्या 50 हजार है जिनके इलाज पर 15 करोड़ रूपये खर्च किए गए हैं।

अकेले नोहर क्षेत्र में 6 हजार 500 लोगों के इलाज के लिए 2 करोड़ रूपये का बीमा क्लेम दिया गया। उन्होंने कहा कि राजश्री योजना के तहत हनुमानगढ़ जिले में 23 हजार बच्चियों के लिए 8 करोड़ और नोहर में 4 हजार 300 बच्चियों के जन्म पर 2 करोड रूपये वितरित किए गए हैं।

श्रीमती राजे ने कहा कि पिछले साढ़े चार साल में हनुमानगढ़ जिले के विकास के लिए 4 हजार 600 करोड़ रूपये स्वीकृत किए गए जिसमें से 700 करोड़ रूपये के विकास कार्य नोहर विधानसभा क्षेत्र में कराए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि जिले की 169 ग्राम पंचायतों में ग्रामीण गौरव पथ बनाए गए हैं, जिन पर 16 करोड़ रूपए से अधिक की राशि खर्च की गई है।

जल स्वावलंबन अभियान के तहत जिले के 237 गांवों में 4 हजार 500 जलग्रहण ढांचों के निर्माण में 60 करोड़ रूपए व्यय किए गए हैं। नोहर विधानसभा क्षेत्र में ही 14 गांवों में 2 हजार 100 निर्माण कार्याें पर 20 करोड़ रूपए की लागत आई है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने प्रदेश के किसानों को अब तक की सबसे बड़ी राहत देने के लिए 50 हजार रूपये तक के कृषि ऋण माफ किए हैं। इससे करीब 30 लाख किसान परिवारों को नौ हजार करोड़ रूपए के ऋणों से मुक्ति मिलेगी।