हम विकास कार्यों में भेदभाव की राजनीति नहीं करते : राजे

cm Vasundhara Raje jansamvad with people of bagidora assembly constituency in banswara anandpur

बांसवाडा। मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने कहा कि हमारी सरकार ने विकास के नाम पर कोई राजनीति नहीं की। जनप्रतिनिधि चाहे किसी भी विचारधारा या दल से संबंधित हो हमने कोई भेदभाव किए बिना प्रदेश के सभी क्षेत्रों में समान रूप से विकास कराया। उन्होंने कहा कि बागीदौरा विधानसभा क्षेत्र में 1200 करोड़ रूपए के विकास कार्य कराए गए हैं।

राजे मंगलवार को बांसवाड़ा जिले के आनंदपुरी में बागीदौरा विधानसभा क्षेत्र के लोगों के साथ जनसंवाद कर रही थीं। उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र की 31 पंचायतों में ग्रामीण गौरव पथ निर्माण के साथ-साथ मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान के तहत 143 गांवों में 5 हजार से अधिक कार्यों पर 34 करोड़ रूपए खर्च किए गए। साथ ही 54 ग्राम पंचायतों में स्कूलों को सीनियर सैकंडरी तक क्रमोन्नत किया है। प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत 12 हजार से अधिक कनेक्शन दिए गए हैं।

जनप्रतिनिधि के खिलाफ शिकायतों पर त्वरित संज्ञान

जनसंवाद के दौरान कुछ लोगों ने एक स्थानीय जनप्रतिनिधि के खिलाफ सरकारी भूमि पर कब्जा करने, विद्यालय के लिए स्वीकृत राशि का दुरूपयोग करने, अनियमितता तथा एक पुल का अलाइनमेंट बदलने की मनमानी के गंभीर आरोप लगाए। कई स्तर पर शिकायत के बावजूद कार्रवाई नहीं की गई।

इस पर मुख्यमंत्री ने त्वरित संज्ञान लिया और सार्वजनिक निर्माण विभाग के अधिकारियों को मौके पर भेजकर अलाइनमेंट बदलने के बारे रिपोर्ट करने तथा सभी शिकायतों पर तुरंत जांच पूरी करने के सख्त निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि आरोपी चाहे कोई भी हो कानून सम्मत कार्रवाई की जाएगी।

मनरेगा में गड़बड़ी की शिकायतों पर एफआईआर

मुख्यमंत्री ने स्थानीय लोगों की शिकायत पर कई ग्राम पंचायतों में मनरेगा के कार्यों में हो रही गडबड़ी पर जिला कलक्टर से जवाब तलब किया। इस पर कलक्टर ने बताया कि दस ग्राम पंचायतों से संबंधित शिकायतों पर जांच की गई है और अब आरोपी सरपंचों तथा कार्मिकों से पैसा वसूलने की कार्रवाई की जाएगी।

उन्होंने मुख्यमंत्री को बताया कि इन मामलों में संबंधित आरोपियों पर पुलिस एफआईआर भी दर्ज की जाएगी। एक हैंडपंप मिस्त्री सुपरवाइजर की फर्जी डिग्री के मामले में भी मुख्यमंत्री ने जांच कर कार्रवाई करने के निर्देश दिए।

ग्राम सचिव के खिलाफ कठोर कार्रवाई होगी

मुख्यमंत्री के सामने स्वच्छ भारत अभियान के तहत शौचालय निर्माण के बाद एक ग्राम सचिव रोडसिंह द्वारा दो करोड़ रूपये से अधिक का भुगतान नहीं करने की शिकायत की गई। इस प्रकरण में एफआईआर दर्ज होने के बावजूद एफआर लगा दी गई। इस पर मुख्यमन्त्री ने सख्त नाराजगी जाहिर की और प्रमुख शासन सचिव पंचायती राज तथा पुलिस अधीक्षक को कड़ी कार्यवाही करने के निर्देश दिए।

तीन वरिष्ठ अधिकारी करेंगे समस्याओं का समाधान

राजे ने बागीदौरा क्षेत्र में शौचालयों के लम्बित भुगतान, सड़कों की खराब स्थिति और सार्वजनिक भवनों तथा सरकारी जमीन पर अतिक्रमण आदि की शिकायतों को गंभीरता से लिया। उन्होने तीन वरिष्ठ अधिकारियों प्रमुख शासन सचिव ऊर्जा संजय मल्होत्रा, प्रमुख शासन सचिव शिक्षा नरेशपाल गंगवार और प्रमुख शासन सचिव ग्रामीण विकास राजेश्वर सिंह को निर्देश दिए कि वे सम्बन्धित अधिकारियों के साथ बैठकर इन समस्याओं का समाधान करें।

इससे पहले मुख्यमंत्री ने आनंदपुरी के उपखंड एवं तहसील कार्यालय भवनों तथा गांगडतलाई के तहसील और पंचायत समिति भवनों का लोकार्पण किया। उन्होंने चौरडी में प्रस्तावित 132 केवी जीएसएस का शिलान्यास भी किया। राजे ने जनसंवाद के दौरान राजश्री, भामाशाह स्वास्थ्य बीमा तथा राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम योजना सहित विभिन्न सामाजिक सुरक्षा योजनाओं के लाभार्थियों से फीडबैक लिया। उन्होंने मेधावी विद्यार्थियों को स्कूटी तथा लैपटॉप वितरित किए और शुभशक्ति योजना, उज्ज्वला योजना तथा प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभार्थियों को लाभान्वित किया।

इस अवसर पर प्रभारी मंत्री सुशील कटारा, सांसद मानशंकर निनामा, पूर्व मंत्री एवं विधायक जीतमल खांट सहित अनेक जनप्रतिनिधि, अधिकारी भी उपस्थित थे।

वसुंधरा राजे ने मानगढ़ धाम में गोविंद गुरु की प्रतिमा का किया अनावरण