संत-महंतों के आशीर्वाद से राज्य का समग्र विकास : वसुंधरा

अजमेर। राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कहा है कि संत महंतों के आशीर्वाद से राज्य का समग्र विकास हो रहा है।

राजे शनिवार को अजमेर में पुष्कर रोड स्थित गणपति नगर में 3.50 करोड़ रुपए की लागत के राजपुरोहित विकास समिति छात्रावास का लोकार्पण करने के बाद संबोधित कर रही थी। उन्होंने राजपुरोहित समाज को भरोसा दिलाया कि सरकार समाज के उत्थान में किसी तरह पीछे नहीं हटेगी और समाज भी राजस्थान के विकास में पहला हाथ बनकर आगे बढ़े इसके लिए वे उन्हें पूरा सहयोग करेंगी।

उन्होंने समाज से आग्रह किया कि आज छात्रावास का निर्माण कर जिस तरह से उन्होंने मिसाल पेश की है तो समाज तय कर ले कि शिक्षा को जरुरी मानते हुए वे अपने बच्चों को पढ़ाई लिखाई का तोहफा अवश्य दें। उन्होंने जयपुर में भी राजपुरोहित समाज को 2500 वर्गगज भूमि जमीन आवंटन का काम पूरी होने की जानकारी दी।

उन्होंने कहा कि राजस्थान को आगे बढ़ाने के लिए सरकार छत्तीस कौमों को साथ लेकर चल रही है और राजस्थान का विकास देवी देवताओं, संत महात्माओं, महंतों के आशीर्वाद से निरंतर पूरा हो रहा है।

मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन में गुरु और राजा के अटूट संबंधों का जिक्र करते हुए कहा कि सरकार के पास लगाने को बहुत कुछ है लेकिन समस्या यह है कि सभी जगह जाया नहीं जा सकता इसीलिए राजस्थान प्रोन्नति संरक्षण के अध्यक्ष ओंकार सिंह लखावत के जरिए सरकार प्रदेशभर के 125 मंदिरों पर छह सौ करोड़ रुपए खर्च कर जीर्णोद्धार का कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि अगस्त-सितंबर माह तक इन कामों को पूरा कर लिया जाएगा।

राजनीति ही होती रही तो प्रदेश फिर गड्ढे में चला जाएगा

राजे ने कहा कि हम बिना किसी राजनीति के विकास करने में यकीन रखते हैं, क्योंकि मेरा मानना है कि अगर राजनीति ही होती रही तो यह प्रदेश फिर गड्ढे में चला जाएगा। उन्होंने कहा कि साढे़ चार साल पहले प्रदेश के वित्तीय हालात बदतर थे, लेकिन हमने कभी नहीं कहा कि विकास के लिए पैसे की कमी है। राज्य सरकार के सकारात्मक प्रयासों का ही परिणाम है कि आज प्रदेश सड़कों के मामले में अव्वल है। शिक्षा के क्षेत्र में आमूलचूल सुधार हुआ है। बड़ी संख्या में स्कूल क्रमोन्नत हुए हैं।

पिछली सरकार के मुकाबले तीन गुना से ज्यादा काम

राज्य सरकार द्वारा अजमेर जिले में कराए जा रहे विकास कार्यां का उल्लेख करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने साढ़े 4 साल में अजमेर के विकास कार्यां के लिए 7600 करोड़ रूपए स्वीकृत किए हैं, जबकि पिछली सरकार 5 साल में मात्र 2400 करोड़ रूपए ही खर्च कर पाई थी।

शिक्षा में हम 26वें नंबर से दूसरे पर आए

शिक्षा राज्य मंत्री वासुदेव देवनानी ने कहा कि राजस्थान आज शिक्षा के क्षेत्र में अन्य राज्यों के लिए नजीर बन गया है। हमारी सरकार आने से पहले राजस्थान शिक्षा के क्षेत्र में 26वें नंबर पर था, जो अब दूसरे नंबर पर आ गया है। प्रत्येक पंचायत में आदर्श विद्यालय, ब्लॉक स्तर पर स्वामी विवेकानन्द मॉडल स्कूल सहित अनके नवाचारों से शिक्षा के क्षेत्र में बड़े सुधार हुए हैं।

70 वर्षों से चली आ रही मांग पूरी होने पर आभार जताया

मोती डूंगरी गणेश मंदिर, जयपुर के महंत कैलाश शर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने परशुराम जयंती के अवसर पर अवकाश शुरू कर ब्राह्मण समाज की 70 वर्षों से चली रही मांग पूरी की है। पूरा ब्राह्मण समाज इसके लिए उनका आभारी है। राजपुरोहित विकास समिति छात्रावास अजमेर के अध्यक्ष अमर सिंह गूलर ने स्वागत संबोधन दिया।

इससे पहले मुख्यमंत्री राजे ने पुलिस लाइन में हैलीपेड पर सम्राट पृथ्वीराज चौहान की जयंती के अवसर पर उनके चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित की।

इस अवसर पर सांवराराम जी महाराज, महिला एवं बाल विकास राज्यमंत्री श्रीमती अनिता भदेल, संसदीय सचिव सुरेश सिंह रावत, शत्रुध्न गौतम, राजस्थान धरोहर संरक्षण एवं प्रोन्नति प्राधिकरण के अध्यक्ष ओंकार सिंह लखावत, अजमेर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष शिवशंकर हेड़ा, अजमेर महापौर धर्मेन्द्र गहलोत, जिला प्रमुख वन्दना नोगिया, विधायक भागीरथ चौधरी, शंकर सिंह रावत सहित अन्य जनप्रतिनिधि, अधिकारी एवं आमजन मौजूद थे।