हसीन जहां के ‘फिक्सिंग’ खुलासे से बढी मोहम्मद शमी की मुश्किलें

CoA asks BCCI's  anti-corruption unit to investigate fixing charges against Mohammed Shami
CoA asks BCCI’s anti-corruption unit to investigate fixing charges against Mohammed Shami

नई दिल्ली। टीम इंडिया के तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी अपनी पत्नी के साथ चल रही घरेलू लड़ाई के सार्वजनिक होने के बाद हर दिन नई मुसीबतों में घिरते जा रहे हैं और अब भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने अपनी भ्रष्टाचार रोधी इकाई को शमी पर लगे मैच फिक्सिंग के आरोपों की जांच के आदेश देकर उनका सिरदर्द और बढ़ा दिया है।

बीसीसीआई का संचालन कर रही प्रशासकाें की समिति ने शमी पर मैच फिक्सिंग में शामिल होने के आरोपों की जांच करने के लिए एसीयू को पत्र लिखा है। भारतीय क्रिकेटर की पत्नी हसीन जहां ने हाल ही में शमी पर घरेलू हिंसा, बलात्कार, उत्पीड़न, विवाहेत्तर संबंधों के साथ उनके मैच फिक्सिंग में शामिल होने और पाकिस्तान की एक महिला से पैसे लेने जैसे संगीन आरोप लगाए थे।

सीओए के प्रमुख विनोद राय ने बुधवार को एसीयू के प्रमुख नीरज कुमार को शमी के ऊपर लगे आरोपों की जांच करने और एक सप्ताह के भीतर अपनी रिपोर्ट देने के लिए ईमेल किया। राय ने बीसीसीआई के पदाधिकारियों और मुख्य कार्यकारी अधिकारी राहुल जौहरी को भी इसकी सूचना दी है।

राय ने अपने पत्र में कहा कि मीडिया में आ रही विभिन्न खबरों के अनुसार शमी पर कई तरह के आरोप लग रहे हैं। सीओए ने शमी और उनकी पत्नी के बीच की टेलीफोन पर हुई बातचीत की रिकार्डिंग भी सुनी है। सीओए इस बातचीत में केवल उस हिस्से को लेकर चिंतित है जिसमें दावा किया गया है कि शमी ने मोहम्मद भाई से किसी पाकिस्तानी महिला अलीश्बा के जरिये पैसा लिया है।

हसीन ने इससे पहले कोलकाता में संवाददाताओं से बातचीत में भी बार बार अलीश्बा का नाम लेते हुए दावा किया था कि शमी इस नाम की पाकिस्तानी लड़की के जरिये मैच फिक्सिंग का पैसा ले रहा है। सीओए प्रमुख ने एसीयू प्रमुख नीरज से भारतीय क्रिकेटर पर लगाए गए फिक्सिंग के आरोपों की जांच के लिए कहा है और सीओए को अपनी रिपोर्ट सप्ताह भर में देने के लिये कहा है ताकि बोर्ड आगे की कार्रवाई कर सके।

राय ने एसीयू प्रमुख से मोहम्मद भाई और अलीश्बा नाम के व्यक्तियों की पहचान करने और शमी की इनके साथ संबंधों को लेकर अपनी जांच का केंद्र रखने के लिए भी कहा है। सर्वाेच्च अदालत द्वारा नियुक्त सीओए प्रमुख ने सात दिनों से अधिक देर तक जांच को नहीं बढ़ाने के लिए भी कहा है।

गौरतलब है कि बीसीसीआई ने हाल ही में जारी केंद्रीय अनुबंधित खिलाड़ियों की सूची से भी शमी को बाहर रखा है। वहीं आईपीएल में भी उनके खेलने को लेकर संकट पैदा हो गया है और उनकी फ्रेंचाइजी दिल्ली डेयरडेविल्स भी शमी की लीग में उपलब्धता को लेकर बीसीसीआई से निर्देशों का इंतजार कर रही है।

इस बीच कोलकाता पुलिस ने भी बीसीसीआई को पत्र लिखकर दक्षिण अफ्रीका दौरे के दौरान शमी की यात्रा को लेकर विस्तृत जानकारी मांगी है।