काम धन्धे इतने मंदे हो गए हैं कि अब तो घरवाली भी….

comedy jokes august month
comedy jokes august month

इश्क़ तो मर्ज़ ही बुढ़ापे का है..

जवानी में फुर्सत ही कहाँ आवारगी से..
????


रात का क्या है वो तो ये सोचकर भी
कट जाती है कि…

;

;

सलमान की भी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है।


काम धन्धे इतने मंदे हो गए हैं कि
अब तो घरवाली भी बिना जेब चैक करे
कपडे धो देती है….।
~परेशान व्यापारी~


ताऊ (अपने बेटे से): – रै बेवकूफ, मेवालाल जी की
बिटिया नै देख, फर्स्ट आई है स्कूल में…!!

बेटा: – और कितणा देख्यूं…???? उसी नै देख-देख
के तो फैल होई गया..


मैनें कभी ईंट का जवाब पत्थर से नहीं दिया…. मैनें बस वही ईंट वापस दे मारी…..
पत्थर ढूंढने में कौन टाईम वेस्ट करे भला
– चाणक्य की कॉलोनी का एक आदमी।