संस्थागत प्रसव एवं टीकाकरण पर पूरा ध्यान दें : कलक्टर आरती डोगरा

अजमेर। कलक्टर आरती डोगरा ने चिकित्सा अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे संस्थागत प्रसव, टीकाकरण, जननी सुरक्षा योजना, राजश्री योजना, मुख्यमंत्री निःशुल्क दवा योजना में किसी प्रकार की शिथिलता ना बरतें तथा उपलब्ध संसाधनों में आमजन को अधिकतम सुविधाएं प्रदान करने का प्रयास करें।

कलक्टर शनिवार को कलक्ट्रेट सभागार में आयोजित जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक की अध्यक्षता कर रही थीं। उन्होंने कहा कि आगामी माह से चिकित्सा क्षेत्र के पांच बिन्दुओं में प्रत्येक सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पर लोगों को उपलब्घ कराई जा रही सुविधाओं के आधार पर रैंकिंग भी की जाएगी।

सरकार ने चिकित्सा क्षेत्र में अनेक जन कल्याणकारी योजनाएं एवं फ्लेगशिप योजनाएं चला रखी है। उसका लाभ आमजन तक पहुंचे यह जरूरी है। इसके लिए सभी अधिकारी प्रयास करें।

उन्होंने टीकाकरण कार्य पर जोर देते हुए कहा कि प्रत्येक स्वास्थ्य केन्द्र पर माता एवं शिशुओं को समय पर टीकाकरण की सुविधा उपलब्ध हो। इसके लिए आंगनबाड़ी केन्द्रों पर भी व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जाए तथा आवश्यक रिकार्ड भी संधारित किया जाए। उन्होंने चिकित्सालयों में सर्जरी सहित समस्त सुविधाएं उपलब्घ कराने के निर्देश दिए ताकि जनता को अपना क्षेत्र छोड़कर अन्य स्थान पर ईलाज के लिए नहीं जाना पड़े।

उन्होंने प्रत्येक चिकित्सालय में प्रसुति सेवाओं को सुदृढ़ बनाने तथा अधिक से अधिक संस्थागत प्रसव कराने पर जोर देते हुए निर्देश दिए कि आगामी 1 से 15 जून तक समस्त चिकित्सालयों के लैबर रूम का निरीक्षण ब्लॉक सीएमएचओ के माध्यम से कराया जाए। जहां प्रत्येक कक्ष में आवश्यक उपकरणों की चैक लिस्ट प्रदर्शित की जाए। वहां सभी संसाधन साफ सुथरे तथा कक्ष में मूलभूत सुविधाएं उपलब्घ रहे इसका विशेष ध्यान रखा जाए।

उन्होंने चिकित्सालयों में गर्भवती महिलाओं की जांच समय पर करने, उन्हें टीकाकरण की सुविधा उपलब्ध कराने के भी निर्देश दिए। इसके लिए एएनएम एवं आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की बैठक लेकर अधिक से अधिक गर्भवती महिलाएं चिकित्सालय में आए इसकी व्यवस्थाएं देखे। उन्होंने संस्थागत प्रसव बढ़ाने के लिए ब्लॉक सीएमएचओ को पाबंद किया तथा निर्देश दिए कि जहां संस्थागत प्रसव कम हो रहे हैं वहां मॉनिटरिंग करें।

उन्होंने मुख्यमंत्री निःशुल्क दवा योजना के संबंध में निर्देश दिए कि किसी भी स्वास्थ्य केन्द्र पर दवाओं की कमी ना रहे। दवा की मांग होते ही दवा की उपलब्धता सुनिश्चित की जाए। उन्होंने ब्यावर के अमृत कौर अस्पताल में एक फार्मोसिस्ट अलग से लगाकर दवा की उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश दिए।

उन्होंने जननी सुरक्षा योजना एवं राजश्री योजना का भुगतान समय पर करने के निर्देश दिए। यदि भुगतान बकाया चल रहा है तो ब्लॉक सीएमएचओ देखे तथा समय पर भुगतान की कार्यवाही करें। आवश्यक हो तो डाटा एन्ट्री ऑपरेटर को भी बदले।

कलक्टर डोगरा ने नवजात शिशुओं के टीकाकरण, महिलाओं की नसबंदी, कॉपर टी लगाने के कार्य की भी समीक्षा की तथा इस संबंध में लोगों को प्रेरित करने के निर्देश दिए। उन्होंने मौसमी बीमारियों के तहत आने वाले समय में संभावित मलेरिया रोग की रोकथाम के लिए पूर्व प्रयास करने, पानी के नमूने लेने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि प्रत्येक स्वास्थ्य केन्द्र पर ओआरएस के पैकेट पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध रहें। बैठक में आदर्श पीएससी की प्रगति की भी समीक्षा की गई।

बैठक में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. केके सोनी, मातृ एवं शिशु कल्याण अधिकारी डॉ. रामलाल सहित समस्त ब्लॉक सीएमएचओ एवं जिलेभर से आए चिकित्सा प्रभारी अधिकारी उपस्थित थे।