सचिन पायलट की कांग्रेस में वापसी पर विचार की कांग्रेस ने रखी ये शर्त

जैसलमेर। कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने बागी कांग्रेस नेता सचिन पायलट को आड़े हाथों लेते हुए कहा है कि उनकी कांग्रेस में वापसी तभी हो पायेगी जब वह भारतीय जनता पार्टी की मनोहर लाल खट्टर सरकार की आवभगत छोड़कर उनके सुरक्षा चक्र से वापस लौटकर बातचीत करे।

सुरजेवाला ने आज यहां एक प्रेस कांफ्रेंस में हरियाणा भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि हरियाणा में आए दिन हत्याएं हो रही हैं, सामूहिक दुष्कर्म की घटनाएं हो रही हैं, गुरुग्राम में सरेआम लोगों को पीटा जा रहा हैं। उनके पास पुलिस उपलब्ध नहीं हैं लेकिन 19 कांग्रेस के नाराज विधायकों की सुरक्षा के लिए उन्होंनेे एक हजार से ज्यादा पुलिसकर्मी तैनात कर दिए हैं। उन्हे सुरक्षा प्रदान करी हैं, यह सब ठीक नहीं हैं।

जहां तक सचिन पायलट की घर वापसी की बात हैं, वह पहले वार्तालाप करे और हमारी सबसे पहली शर्त हैं कि भाजपा की मेहमानबाजी एवं आवभगत छोड़े और हमसे बात करे, तभी उनकी वापसी हो पाएगी।

उन्होंने राम मन्दिर के शिलान्यास के अवसर पर भाजपा के नेता लालकृष्ण आडवाणी को नहीं बुलाने के संबंध में कहा कि वह इस संबंध में कोई राजनीतिक टिप्पणी नहीं करना चाहते। भाजपा भगवान श्रीराम एवं सीतामाता के आदर्शों की व्याख्या कर रही हैं लेकिन जिस तरह वह व्यक्तिविशेष पर छींटाकशी की जा रही हैं, इस संबंध में वे खुद जाने लेकिन कहना चाहेंगे कि राजनीति का धर्म होना चाहिए, धर्म की राजनीति नहीं, यह ही राम की मर्यादा हैं।

सुशांत सिंह की आत्महत्या के संबंध में महाराष्ट्र सरकार द्वारा पूछे गए सवाल के संबंध में उन्होंने कहा कि संविधान के अनुसार प्रदेश में कानून व्यवस्था की जिम्मेदारी सरकार की होती हैं। इस संबंध में बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार को संविधान पढ़ना चाहिए, उन्होंने जबरन अधिकारी भेजकर दखलांदजी की जा रही हैं जो वह नहीं कर सकती, यह उचित नही हैं। जब एक राज्य की पुलिस दूसरे राज्य में जाकर दखलअंदाजी करेगी तो अराजकता फैल जाएगी।

हमारे राजस्थान सरकार की एसओजी हरियाणा में जांच के लिए गई तो हमने हरियाणा पुलिस से संपर्क किया और उनसे सहयोग मांगा। यह अलग बात हैं कि आज भी वहां पर भाजपा की हरियाणा सरकार दुर्भावना से 19 विधायकों को रखे हुए है। गैर कानूनी तरीके से राजस्थान की एसओजी टीम को बार बार रोक जा रहा है और उनसे बात नहीं करने दी गई। जहां तक महाराष्ट्र में सुशांत सिंह की मौत मामले में मुकदमा दर्ज हैं और महाराष्ट्र सरकार सुशांत सिंह की मौत की पूरी सटीक एवं निष्पक्ष जांच कर रही हैं।

उन्होंने केंद्र सरकार पर राजस्थान सरकार गिराने का आरोप लगाते हुए कहा कि वह राजस्थान की आठ करोड़ जनता द्वारा चुनी गई लोकतांत्रिक सरकार को धनबल एवं बाहुबल के जरिये षड़यंत्र करके गिराने में लगी हुई हैं। भाजपा के पिछलगू नेता जिनपर राजस्थान में मुकदमे दर्ज हैं, इस षडयंत्र को पूरा करने में लगे हुए हैं लेकिन राजस्थान के स्वाभिमान को दिल्ली में बैठी सरकार किसी सूरत में हरा नहीं पाएगी।

उन्होंने कहा कि भाजपा की इस षडयंत्रकारी नीतियों को हम कभी सफल नही होने देंगे। भाजपा में खुद में बौखलाहट साफ नजर आ रही हैं। उनका भानुमती का कुनबा चरमराकर आए दिन गिर रहा हैं।

सुरजेवाला ने कांग्रेस की प्रियंका गांधी वाड्रा के राम मंदिर को लेकर दिए सन्देश को मीडिया से साझा किया। उन्होंने कहा कि प्रियंका गांधी द्वारा राम मंदिर शिलान्यास को लेकर वक्तत्व जारी कर कहा है कि पांच अगस्त को राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन का कार्यक्रम रखा गया हैं, यह कार्यक्रम राष्ट्रीय एकता, बंधुत्व एवं समागम का कार्यक्रम बने।