हिन्दू धर्म पर कांग्रेस नेताओं का हमला दुर्भाग्यपूर्ण : भाजपा

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के हिंदुत्व पर दिए गए बयान की निंदा करते हुए कहा है कि ने हिंदू धर्म पर कांग्रेस नेताओं का हमला दुर्भाग्यपूर्ण है।

भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने शुक्रवार को संवाददाता सम्मेलन में कहा कि यह बड़ा दुखद विषय है कि 24 घंटे के भीतर हिंदू धर्म के ऊपर तीन बार प्रहार कांग्रेस पार्टी के नेताओं की ओर से होता है। कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद, कांग्रेस नेता राशिद अलवी और अब स्वयं उनके सबसे बड़े नेता राहुल गांधी द्वारा हिंदुत्व का अपमान किया जाता है। आभासी सम्मेलन के माध्यम से उन्होंने खुर्शीद के वक्तव्य और उनकी लिखी किताब पर अपनी सफाई रखी है। उस सफाई में भी गांधी ने हिंदू धर्म पर, हिंदुत्व पर प्रहार किया है।

उन्होंने कहा कि राहुल गांधी ने उपनिषद तो क्या संविधान ही पढ़ लिया होता तो उनके लिए काफी होता। उनका बयान संयोग नहीं तुष्टीकरण की राजनीति का दूषित प्रयोग है।

पात्रा ने आरोप लगाया कि यह कांग्रेस और गांधी परिवार का चरित्र रहा है कि जब भी उनको मौका मिलता है तो वे हिंदू धर्म पर प्रहार अवश्य करते हैं। श्री खुर्शीद हिंदू धर्म के विरोध में कहते हैं, हिंदुत्व की तुलना आतंकी संगठन ‘बोको हराम’ और ‘आईएसआईएस’ से करते हैं।

कांग्रेस के ही एक अन्य नेता शशि थरूर हिंदू तालिबान शब्द का इस्तेमाल करते हैं। भगवा आतंकवाद शब्द का प्रयोग कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह और मणिशंकर अय्यर हिंदू धर्म के खिलाफ करते हैं। भगवान श्रीराम पर गांधी परिवार को भरोसा नहीं है।

उन्होंने आरोप लगाया कि राहुल गांधी के निर्देश पर ही उनकी पार्टी के नेता इस तरह के बयान देते हैं। सत्रह दिसंबर को गांधी ने कहा था कि भारत को आतंकियों से ज्यादा खतरा हिदुओं से है। कांग्रेस हिंदुत्व के खिलाफ सोचा-समझा जाल बिछाने की कोशिश कर रही है।

पात्रा ने उर्दू के अखबार इंकलाब का हवाला देते हुए कहा कि इंकलाब में गांधी का बयान छपा था जिसमें उन्होंने कहा था कि हम मुसलमानों की पार्टी हैं। राहुल ने कहा था कि मंदिर जाने वाले लोग बदमाश होते हैं और लड़कियों को परेशान करते हैं।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस वही पार्टी है जो चाहती थी कि 2019 में मंदिर को लेकर सुनवाई ना हो। कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने हलफनामा दिया था और कहा था भगवान राम काल्पनिक हैं।

उल्लेखनीय है कि गांधी ने आज पार्टी के डिजिटल ‘जन जागरण अभियान’ के उद्घाटन के दौरान इशारों-इशारों में पार्टी नेता खुर्शीद की किताब पर चल रहे विवाद को लेकर अपनी बात रखी। उन्होंने कहा था कि आखिर हिंदू धर्म और हिंदुत्व में क्या अंतर है, क्या यह एक ही बातें हैं। अगर यह एक ही बात हैं, तो हम उनके लिए एक जैसा नाम क्यों नहीं इस्तेमाल करते? जाहिर तौर पर दो अलग-अलग चीजें हैं। क्या हिंदू धर्म किसी सिख या मुस्लिम को मारता है, लेकिन हिंदुत्व का यही काम है।

दूसरी ओर उत्तर प्रदेश में कांग्रेस नेता अल्वी ने जय श्रीराम का नारा लगाने वालों को कालनेमी राक्षस बताकर विवाद पैदा कर दिया। उन्होंने कहा कि आजकल कुछ लोग जय श्रीराम का नारा लगाकर देश के लोगों को गुमराह करते हैं, ऐसे लोगों से होशियार रहना चाहिए।