राजस्थान में कांग्रेस और भाजपा में दंगल, किसकी होगी विजय

जयपुर। राजस्थान विधानसभा चुनाव में नामांकन के अंतिम दिन तक कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी में शह और मात का जबरदस्त खेल चला तथा मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को घेरने की कांग्रेस की कोशिश के जवाब में भाजपा ने सचिन पायलट की घेराबंदी के लिए मुख्यमंत्री के विश्वसनीय औऱ मुस्लिम चेहरे यूनुस खान को आज टोंक से चुनावी मैदान में उतार दिया।

कांग्रेस ने राजस्थान में भाजपा की जमीन तैयार करने वाले वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह के पुत्र मानवेंद्र सिंह को वसुंधरा राजे की घेराबंदी के लिए उतारने के साथ भाजपा के दोसा से सांसद हरीश मीना को तोड़कर अपना टिकट दे भाजपा को करारा झटका दिया था।

भाजपा ने इसका करारा जवाब देते हुए कांग्रेस के मुख्यमंत्री पद के प्रबल दावेदार सचिन पायलट की घेराबंदी के लिए वसुंधरा मंत्रिमंडल में नंबर दो की हैसियत रखने तथा श्रीमती राजे के करीबी माने जाने वाले पार्टी के मुस्लिम चेहरे परिवहन मंत्री यूनुस खान को टोंक सीट से टिकट दे दिया। इस सीट पर मुस्लिम मतदाताओं की अच्छी खासी संख्या है।

मुस्लिम समुदाय ने हाल ही में सचिन का विरोध कर अपने तीखे तेवर दिखाए थे। पार्टी ने इस कदम से उस आलोचना का भी जवाब दिया है कि उसने मुस्लिम समुदाय से किसी को टिकट नहीं दिया है। यह कहा जा रहा था कि भाजपा उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव की तरह राजस्थान में भी मुस्लिम समुदाय से दूरी बना कर चल रही है।

साथ ही पार्टी ने कांग्रेस में बड़ी सेंध लगाते हुए कोटा राज परिवार से जुड़े हुए उसके पूर्व सांसद इज्यराज सिंह की पत्नी कल्पना राजे को लाडपुरा से चुनावी समर में उतार दिया। पार्टी के इस कदम को पुराने जागीरदार परिवार से जुड़े मानवेंद्र सिंह की काट के रूप में भी देखा जा रहा है।

कोटा के राजपरिवार का हाड़ौती क्षेत्र के कोटा, झालावाड़, बारां और बूंदी में खास प्रभाव है और इससे भाजपा के गढ़ माने जाने वाले इन क्षेत्रों में कांग्रेस की पैठ बढ़ेगी। कल्पना राजे को जल्दी ही पार्टी में औपचारिक रूप से शामिल किया जाएगा।

भाजपा ने कांग्रेस की पूर्व विधायक रही और राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रही ममता शर्मा को तुरत फुरत पार्टी में शामिल कर पीपल्दा से टिकट दे दिया। ममता शर्मा को कांग्रेस के बड़े नेताओं में गिना जाता है।

भाजपा ने यहां अपने मौजदा विधयक नंद किषोर नंदवाना का टिककर काट दिया। पार्टी ने आई ए एस अधिकारी रहे ओ पी सैनी को भी करौली से टिकट दिया है। उन्होंने दो दिन पहले ही स्वेच्छिक सेवानिवृति के किये आवेदन दिया है। भाजपा ने झुंझनू से कांग्रेस के जिला परिषद सदस्य राजेन्द्र भामू को पार्टी में शामिल कर झुंझनू सिटी से उम्मीदवार बनाया है।

जहां भाजपा कांग्रेस में सेंधमारी में लगी थी वहीं कांग्रेस उम्मीदवारों की अदला बदली में उलझी रही। पार्टी ने रविवार को जारी सूची में वरिष्ठ नेता बी डी कल्ला को बीकानेर पश्चिम से टिकट दे दिया।

बीकानेर पश्चिम से टिकट पा चुके यशपाल गहलोत को कन्हिया लाल झंवर की जगह बीकानेर पूर्व से टिकट दे दिया गया। इससे नेता विपक्ष रामेश्वर डूडी नाराज हो गए जिसे देखते हुए पार्टी ने रात में बदलाव करते हुए यशपाल का टिकट काटकर ओहिर से झंवर को टिकट दे दिया।