कांग्रेस चुनावी पराजयों से खीजकर लोकतांत्रिक व्यवस्था को खतरे में दाल रही है-तोमर

कांग्रेस चुनावी पराजयों से खीजकर लोकतांत्रिक व्यवस्था को खतरे में दाल रही है-तोमर
कांग्रेस चुनावी पराजयों से खीजकर लोकतांत्रिक व्यवस्था को खतरे में दाल रही है-तोमर

भोपाल । केंद्रीय पंचायती राज एवं ग्रामीण विकास मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस पर जमकर हमला बोलते हुए आज कहा कि वह लगातार चुनावी पराजयों से खीजकर लोकतांत्रिक व्यवस्था को भी खतरे में डालने से नहीं चूक रही है।

श्री तोमर के यहां स्थित कार्यालय से जारी बयान में उन्होंने कहा कि देश पर सबसे ज्यादा समय तक राज करने वाली कांग्रेस इस समय भारी हताशा में है। लगातार पराजयों के कारण वह खीज गयी है और संवैधानिक संस्थाओं पर भी हमलों से नहीं चूक रही है। यही वजह है कि कांग्रेस उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश के खिलाफ महाभियोग का प्रस्ताव लायी और अब कर्नाटक राज्य में ‘उत्तर दक्षिण’ जैसे मुद्दे उछाले जा रहे हैं, जो देश के लिए खतरनाक संकेत हैं।

श्री तोमर ने कहा कि कभी भगवा आतंकवाद का शब्द गढ़ने वाले कांग्रेस के नेता अब कह रहे हैं कि आतंकवाद का कोई धर्म नहीं होता है। जबकि विकीलीक्स के जो दस्तावेज सामने आए थे, उसमें भी कांग्रेस नेता राहुल गांधी और अमरीकी राजदूत के बीच चर्चा के अंश थे। इसमें हिंदू आतंकवाद का जिक्र था।

वरिष्ठ भाजपा नेता ने कहा कि कर्नाटक विधानसभा चुनाव में कांग्रेस नेताओं ने शिवभक्त लिंगायतों को हिंदू समाज से अलग करने की साजिश के तहत अल्पसंख्यक घोषित किया है। अब वहां सत्तारूढ़ कांग्रेस नेताओं को सत्ता छिनने का डर सता रहा है और इसके कारण कांग्रेस ‘उत्तर दक्षिण’ जैसे मुद्दे उछाल रही है, जो गैरसंवैधानिक है। उन्होंने कहा कि जिस तरह से महाभियोग और अन्य मामलों में कांग्रेस को मुंह की खानी पड़ी, उसी तरह का हश्र उसका कर्नाटक से जुड़े मसलों पर भी होगा।