अरुण जेटली की कोई नहीं सुनता, फिर भी बोलते हैं : कांग्रेस

नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली के सीबीआई निदेशक की नियुक्ति को लेकर लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे पर अधिकारों के दुरुपयोग के आरोप पर कांग्रेस ने तीखा पलटवार किया और कहा कि उनकी कोई सुनता नहीं है फिर भी बोलते रहते हैं।

कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने रविवार को यहां पत्रकारों से कहा कि श्री जेटली केंद्रीय जांच ब्यूरो निदेशक की नियुक्ति संबंधी उच्च स्तरीय समिति के सदस्य नहीं हैं फिर भी समिति से जुड़े मुद्दे पर बोल रहे हैं। उनकी कोई सुनता नहीं है। वह बाहर बैठे हैं और बजट तक पेश नहीं किया है। बजट को लेकर जो बातें उन्होंने कही थीं वे बजट में कहीं नहीं हैं। इससे साफ है कि उनकी कोई सुनता नहीं है।

उन्होंने कहा कि श्री खड़गे सीबीआई निदेशक की नियुक्ति करने वाली उच्च स्तरीय समिति के सदस्य हैं। वह इस मसले पर असहमति जता सकते हैं। अपनी असहमति को को लेकर नोट भी लिख सकते हैं। जेटली इस समिति से बाहर के व्यक्ति हैं फिर भी इस मुद्दे पर बोल रहे हैं। उन्होंने कहा कि कुछ लोगों को बोलने की आदत होती है और वह बोलते रहते हैं, भले ही उनकी बात कोई सुने या नहीं सुने।

प्रवक्ता ने कहा कि जेटली को जहां बोलना चाहिए वहां तो बोलते नहीं हैं लेकिन जहां नहीं बोलना है उस मुद्दे पर बोल रहे हैं। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार के कार्यकाल में सीबीआई में जो कुछ हुआ है उसको लेकर सीबीआई जैसी विश्वसनीय संस्था से लोगों का विश्वास टूटा है।