राजस्थान चुनाव : हिन्दुत्व मुद्दे पर कांग्रेस भी नहीं हो पा रही अलग

जयपुर। राजस्थान विधानसभा चुनाव में सत्तारुढ भाजपा सत्ता विरोधी लहर को कम करने के लिए हिन्दुत्व का सहारा ले रही है जिसमें कांग्रेस भी फंसती नजर आ रही हैं।

चुनाव की रणभैरी बजने से पहले भाजपा की स्थिति को काफी कमजोर माना जा रहा था लेकिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सभाएं तथा हिन्दुत्व के मुद्दे उठने से माहौल में काफी फर्क नजर आ रहा है। भाजपा नेता कांग्रेस के नेताओं की चूक और बयानबाजी को हाथोहाथ लेकर मुद्दा बना रहे हैं।

टिकट वितरण में ही दोनों पार्टियों में बुनियादी फर्क नजर आ गया था जहां कांग्रेस ने पन्द्रह मुस्लिम उम्मीदवार उतारे वहीं भाजपा ने सिर्फ एक मुस्लिम उम्मीदवार को टिकट दिया। इसी तरह कई मुस्लिम उम्मीदवारों के सामने धार्मिक संतों को उतारकर भाजपा ने सीधी अपनी अलग रेखा बना दी।

इसके बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सभाओं में राममंदिर और राष्ट्रवाद की दलीलों ने हिन्दुत्व के माहौल को और गर्माया। भाजपा ने चुनाव घोषणा पत्र में भी मुसलमानों के साथ कोई वादा नहीं कर फिर अपना अलग चेहरा दिखा दिया।

बेरोजगारी, किसानों के मुद्दे, कानून व्यवस्था तथा आर्थिक स्थिति के मुद्दे पर्दे के पीछे आ गये तथा गौत्र, जाति और धर्म के मुद्दों पर न केवल चुनाव सभाओं में बल्कि चैनलों पर बहस में छा रहे हैं।

कांग्रेस नेताओं के मंदिर दर्शन और हिन्दुत्व के मुद्दों पर भाजपा की बयानबाजी का मुकाबला नहीं करने से यह लगने लगा है कि कांग्रेस भी इसमें फंसती नजर आ रही हैं। हालांकि कांग्रेस भाजपा पर हिन्दुत्व के नाम पर गुमराह कर चुनावी लाभ लेने का आरोप लगा रही हैं लेकिन इस तरह भी यह मुद्दा चुनाव चर्चा से अलग नहीं हो पा रहा है।

शासन का हिसाब देने के मामले में भी कांग्रेस और भाजपा अपने अपने दावे कर रही है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कांग्रेस पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाने के साथ चार पीढ़ियों का हिसाब मांग रहे हैं जिसके जवाब में कांग्रेस राज्य की भाजपा सरकार का हिसाब मांग कर सवाल खड़े कर रही हैं।

कांग्रेस नेता मोदी को बड़े बड़े सपने दिखाकर गुमराह करने वाला “फैंकू” साबित करने का प्रयास कर रही है। कांग्रेस नेता प्रमोद तिवाड़ी ने अरब सागर का पानी राजस्थान लाने के मोदी के बयान को भी हास्यास्पद बताते हुए कहा कि मोदी फैंकने में माहिर हैं। इसी तरह कालाधन लाकर हर व्यक्ति को पन्द्रह लाख रुपए देने के मोदी के वायदे को भी फैंकू की श्रेणी में बताने का प्रयास किया जा रहा हैं।

कांग्रेस नेता भाजपा नेताओं के व्यवहार को भी मुद्दा बना रहे हैं। पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के अभिवादन में झुकने पर तंज कसा था जिसको राजे ने महिला का अपमान से जोड़ दिया।

राज्य की दो सौ सीटों में कांग्रेस 195 सीटों पर चुनाव लड़ रही है तथा पांच सीटें सहयोगी दलों को दी हैं। भाजपा सभी सीटों पर हैं। इसके अलावा बसपा, राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी सहित कई छोटे मोटे दल और निर्दलीय उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। इनमें करीब सवा सौ सीटों पर कांग्रेस और भाजपा में सीधा मुकाबला हैं जबकि शेष सीटों पर त्रिकोणात्मक एवं चतुष्कोणीय मुकाबला हैं।