कांग्रेस बताए, सर्जिकल स्ट्राइक सही या गलत : रविशंकर प्रसाद

कांग्रेस बताये, सर्जिकल स्ट्राइक सही या गलत -रविशंकर प्रसाद
कांग्रेस बताये, सर्जिकल स्ट्राइक सही या गलत -रविशंकर प्रसाद

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी ने पाकिस्तान के कब्ज़े वाले कश्मीर में आतंकवादियों के अड्डों पर भारतीय सेना की सर्जिकल स्ट्राइक काे लेकर कांग्रेस की दलीलों को खारिज करते हुए कहा है कि वह दिन दूर नहीं जब कांग्रेस के बयानों को लश्करे तैयबा जैसे आतंकवादी संगठनों का समर्थन मिल जाएगा।

भाजपा के वरिष्ठ नेता और कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने आज यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा कि कांग्रेस ने जिस प्रकार के आरोप सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर लगाये हैं, उससे एक बार फिर साबित हो गया है कि वह मुख्यधारा की पार्टी नहीं रह गई है और तेजी से हाशिये की छुटभैया पार्टी बनती जा रही है। उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं लगता है कि कांग्रेस वही पार्टी है जिसने देश पर 58 साल तक शासन किया।

प्रसाद ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सर्जिकल स्ट्राइक को खून की दलाली कह चुके हैं और उनकी मां ने भी किसी समय मौत के सौदागर जैसे शब्द का प्रयाेग किया था। एेसे शब्द प्रयोग करने वाले नेताओं की पार्टी से सर्जिकल स्ट्राइक के बारे कोई अच्छी उम्मीद नहीं की जा सकती है।

कांग्रेस नेता लगातार जम्मू-कश्मीर के बारे में राज्यसभा में विपक्ष के नेता एवं राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री गुलाम नबी आज़ाद के सेना पर आए बयान का लश्करे तैयबा का सर्टिफिकेट मिल गया है और अब वह खामोश हैं लेकिल सैफुद्दीन सोज लगातार बोल रहे हैं।

उन्होंने कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक के बाद उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, गुजरात, उत्तराखंड, कर्नाटक और पूर्वोत्तर के राज्यों में चुनाव हुए हैं लेकिन किसी चुनाव में भाजपा ने सेना की इस कार्रवाई के वीडियो या तस्वीरों का राजनीतिक या चुनावी इस्तेमाल नहीं किया है।

इस वीडियो को सेना के अधिकारियों ने जारी किया था और बयान भी दिया था कि उन्होंने इस कार्रवाई की लाइव मॉनीटरिंग की थी। इसके बावजूद भी कांग्रेस नेताओं के जो सुर हैं, वे पाकिस्तान में मौजूद आतंकवादियों एवं उनके आकाओं को सूट करते हैं।

प्रसाद ने कांग्रेस से पूछा कि वह बेलाग लपेट साफ-साफ बताये कि वह सर्जिकल स्ट्राइक किये जाने और सेना द्वारा बनाए गए उसके वीडियो को गलत मानती है या सही तथा सेना का नियंत्रण रेखा पार करके आतंकवादियों पर हमला करना उचित था या अनुचित।

उन्होंने कहा कि जनता द्वारा बार बार हराए जाने से कांग्रेस इतनी हताश एवं निराश हो गई है कि वह सेना का मनाेबल गिराने में लग गई है।

उन्होंने एक सवाल के जवाब में यह भी कहा कि तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के कार्यकाल में करगिल युद्ध और मई 1998 के परमाणु परीक्षण पर भी कांग्रेस ने देश का मनोबल गिराने वाले सवाल किए थे।

उन्होंने कहा कि हमें आशंका है कि कहीं लश्करे तैयबा अब कांग्रेस पार्टी के बयानों का समर्थन न कर दे। उन्होंने कहा कि पत्रकार शुजात बुखारी की हत्या के मामले में जो नए तथ्य सामने आए हैं कि उनकी हत्या पाकिस्तान से आए आतंकवादी ने की थी और हाफिज सईद ने उसे यह काम सौंपा था। इस खुलासे के बाद कांग्रेस के नेता क्या कहना चाहेंगे।

कानून मंत्री ने कहा कि कांग्रेस इसलिए सेना का मनोबल गिरा रही है क्योंकि मोदी सरकार ने हथियारों की खरीद में कमीशनखाेरी को पूरी तरह से बंद कर दिया है। चाहे बोफोर्स तोप हो या अगुस्ता हेलीकॉप्टर, स्कोर्पीन पनडुब्बी हो, कांग्रेस ने हर जगह दलाली कराई है। मोदी सरकार ने बिचौलियों एव दलालों के दरवाजे बंद कर दिए हैं।

उन्होंने कहा कि हारी हुई, थकी हुई कांग्रेस ने ईद की छुट्टी मनाने जा रहे सैनिक आैरंगजेब की हत्या पर उसके घर रक्षा मंत्री और सेना प्रमुख के जाने और उसके बहादुर पिता के साथ संवेदना व्यक्त करने को ड्रामा कहा है और सबसे लाेकप्रिय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की तुलना नृशंस तानाशाह औरंगज़ेब से की है। यह राजनीति में एक नई तरह की गिरावट है।

सर्जिकल स्ट्राइक के बाद कश्मीर के हालात में क्या बदलाव आया है, यह पूछे जाने पर प्रसाद ने कहा कि सेना एवं सुरक्षा बलों को खुले हाथ से काम करने की छूट दे दी गई है और बड़ी संख्या में आतंकवादियों का सफाया किया जा रहा है। काले धन को सफेद करने के मामले में हुर्रियत के नेताअों के विरुद्ध भी कार्रवाई हुई है।