रघु शर्मा का राजनीतिक कद बढा, बने गुजरात कांग्रेस के प्रभारी

जयपुर। राजस्थान के चिकित्सा मंत्री और गुजरात के प्रभारी डा रघु शर्मा ने कहा कि वह गुजरात में कांग्रेस संगठन को मजबूत करने के लिए पार्टी नेताओं से वन टू वन बात कर कांग्रेस संठन को मजबूत करने का काम करेंगे।

डा शर्मा ने आज गुजरात रवाना होने से पूर्व यहां पत्रकारों से बातचीत में कहा कि गुजरात में पिछले 26 वर्ष से कांग्रेस सत्ता से बाहर है तथा गत 20 वर्षो से भारतीय जनता पार्टी भाजपा सत्ता में है।

उन्होंने कहा कि गुजरात मेें कांग्रेस का कार्यकर्ता पार्टी को अगली बार सत्ता में लाने के लिए मजबूती के साथ जुटा हुआ है और निश्चित रूप से अगली बार वहां कांग्रेस पार्टी की सरकार बनेगी।

उन्होंने कहा कि भाजपा 2017 के विधानसभा चुनाव में अधिकांश जगह पर हार गई थी लेकिन भाजपा ने मुश्किल से ड्रामा कर सत्ता पर कब्जा जमाया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के आलाकमान ने जिस उम्मीद के साथ उनको गुजरात के प्रभारी की जिम्मेदारी सौंपी हैं उस पर वह खरा उतरने का प्रयास करेंगे।

डॉ. शर्मा ने कहा कि भाजपा ने गुजरात में संवैधानिक मर्यादाओं को तार-तार कर 18 कांग्रेस विधायकों को तोड़ा। ये 18 विधायक भी बाद में धराशायी हो गए। भाजपा ने कांग्रेस से गए 18 विधायकों को भी कुछ ही समय बाद उनकी औकात दिखा दी। भाजपा भरोसे लायक पार्टी नहीं है। 18 विधायकों में से कुछ को पहले सरकार में शामिल किया। कुछ ही समय बाद उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया।

उन्होंने कहा कि मैं पार्टी का कार्यकर्ता हूं और पार्टी आलाकमान जो आदेश देगा, उस आदेश का पालन करूंगा। हम पार्टी में काम करने के लिए आए हैं। डा शर्मा ने प्रदेश में मंत्री पद छोडने का संकेत देते हुए कहा कि मंत्रिमंडल विस्तार मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का क्षेत्राधिकार है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में सत्ता हमारे पास है तो मंत्री रहना मेरे लिए जरूरी भी नहीं है। मेरी पहली प्राथमिकता संगठन है और संगठन में काम करूंगा।