संयुक्त राष्ट्र एजेंसी ने उड़ानों के लिए जारी किए दिशा-निर्देश

मॉन्ट्रियल। संयुक्त राष्ट्र की एजेंसी अंतरराष्ट्रीय नागर विमानन संगठन (आईसीएओ) ने कोविड-19 महामारी के मद्देनजर उड़ानों के लिए नए अंतरराष्ट्रीय दिशा-निर्देश जारी किए हैं जिनमें यात्रियों को यथासंभव अगल-बगल की सीट पर न बिठाने और विश्राम के समय चालक दल के हर सदस्य को अलग-अलग कमरों में ठहराने की बात कही गई है।

आईसीएओ परिषद् के ‘एविएशन रिकवरी टास्क फोर्स’ द्वारा तैयार इस दिशा-निर्देश में हवाई अड्डा संचालकों, विमान सेवा कंपनियों और सरकारों के लिए कई प्रकार की अनुशंसाएं की गई हैं। इसमें कहा गया है कि यदि विमान में यात्रियों की संख्या कम है तो उन्हें अलग-अलग बिठाया जाना चाहिए जिससे उनके बीच दूरी रखी जा सके।

सीट के नीचे रखे जाने लायक बैगेज ही केबिन में ले जानी की अनुमति दी जानी चाहिए। आईसीएओ ने छोटी दूरी की उड़ानों में विमान के अंदर खाना-पीना न परोसने और लंबी दूरी की उड़ानों में इसे सीमित करने की सलाह देते हुए कहा है कि डिब्बाबंद खाना देने का विकल्प तलाशा जा सकता है।

अंतरराष्ट्रीय एजेंसी ने सोमवार को जारी दिशा-निर्देश में चालक दल के सदस्यों को यात्रियों से अधिक से अधिक दूरी बनाने और यदि संभव हो तो विमान में एक शौचालय सिर्फ चालक दल के सदस्यों के इस्तेमाल के लिए आरक्षित करने का सुझाव दिया है। उसने केबिन क्रू और पालयटों के बीच भी कम से कम संपर्क रखने की बात कही है। पूरी यात्रा में केबिन क्रू के एक ही सदस्य को कॉकपिट में प्रवेश की अनुमति होनी चाहिए।

लंबी दूरी की उड़ान के बाद आम तौर पर चालक दल के सदस्यों को होटल आदि में ठहराया जाता है। आईसीएओ ने कहा है कि हर सदस्य को अलग-अलग कमरे में ठहराया जाना चाहिए। उनके जाने से पहले कमरे को पूरी तरह विसंक्रमित किया जाना चाहिए और हवाई अड्डे से होटल तक उनके आने-जाने की व्यवस्था एयरलाइन को करनी चाहिए।

आईसीएओ ने चालक दल के सदस्यों के लिए ड्यूटी के समय दिन में कम से कम दो बार शरीर का तापमान लेना अनिवार्य किया है। उसने कहा है कि सर्दी, खांसी, बुखार या सांस लेने में तकलीफ जैसा कोरोना का कोई भी लक्षण होने पर उन्हें ड्यूटी पर नहीं आना चाहिए।

ड्यूटी के दौरान इस प्रकार के लक्षण सामने आने पर उन्हें तुरंत अन्य सदस्यों तथा यात्रियों से अधिक से अधिक दूरी बनानी चाहिए तथा विमान के गंतव्य पर उतरने पर स्वास्थ्य संबंधी दिशा-निर्देशों के अनुरूप काम करना चाहिए।

चालक दल के सदस्यों के साथ ही यात्रियों के लिए संक्रमण से बचाव के सभी उपाय अपनाने की सलाह दी गई है। चालक दल के सदस्यों के लिए कहा गया है कि उनका मास्क या फेसशील्ड इस प्रकार होना चाहिए जिससे आपात स्थिति में ऑक्सीजन मास्क लगाने में दिक्कत न हो। साथ ही पीपीई किट के कारण उन्हें आपात स्थिति के अपने कर्तव्यों जैसे अग्निशामकों के संचालन में कोई परेशानी नहीं होनी चाहिए।

दिशा-निर्देशों में हवाई अड्डे पर प्रवेश और निकास के दौरान भी यात्रियों के बीच कम से कम एक मीटर की दूरी बनाकर रखने के लिए कई सुझाव दिए गए हैं। इनमें कहा गया है कि यात्री को हर समय मास्क पहने रखना होगा, हालांकि सुरक्षा जांच के दौरान यदि पहचान पत्र पर फोटो के साथ मिलान के लिए मास्क उतरवाना जरूरी हो तो इस दौरान सुरक्षाकर्मी और यात्री के बीच सुरक्षित दूरी सुनिश्चित की जानी चाहिए।

यात्रियों को ऑनलाइन चेकइन करने और हवाई अड्डे पर ई-बोर्डिंग पास को स्कैन करने की सुविधा की बात भी दिशा-निर्देश में कही गई है। आईसीएओ ने हर उड़ान के बाद कॉकपिट में पायलट के ‘कंसोल’ को खास तौर पर संक्रमण मुक्त करने की सलाह दी है। उसने कहा है कि चालक दल के सदस्यों का प्रशिक्षण यथासंभव ऑनलाइन किया जाना चाहिए।