BJP बोली, राहुल के आरोप झूंठ का पुलिंदा, कांग्रेस कर रही नकारात्मक राजनीति

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी के आरोपों को झूठ का पुलिंदा करार देते हुए मंगलवार को कहा कि कांग्रेस नकारात्मक राजनीति की पराकाष्ठा पार कर गई है इसीलिए जनता ने उससे किनारा कर लिया है।

भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि राष्ट्रीय आपदा की इस घड़ी में जब समग्र भारत कोविड-19 की महामारी से निर्णायक लड़ाई लड़ रहा है, तब ऐसे समय में कांग्रेस ने नकारात्मक राजनीति की पराकाष्ठा पार कर रही है। कांग्रेस की इस नकारात्मक राजनीति से देश की जनता ने कब का किनारा कर लिया है।

जावड़ेकर ने कहा कि आज की राहुल गांधी की प्रेस वार्ता कांग्रेस की इसी नकारात्मक राजनीति का उदाहरण है। गांधी ने प्रेस के सामने जो भी बोला, वह झूठ के पुलिंदे के सिवा कुछ और नहीं था। उन्होंने कहा कि वह गांधी को बताना चाहते हैं कि जब देश में संपूर्ण लॉकडाउन लगा था, तब तीन दिन में ही संक्रमण के मामलों की संख्या दोगुनी हो रही थी जबकि अब 12-13 दिनों में संक्रमण के मामले डबल हो रहे हैं। यह देश की सफलता है।

उन्होंने कहा कि जब कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए देश में लॉकडाउन लगाया गया, तब भी कांग्रेस ने हाय-तौबा मचाया था कि इससे अर्थव्यवस्था तबाह हो जाएगी। आज जब लॉकडाउन धीरे-धीरे हट रहा है, तब भी कांग्रेस इसका विरोध करते हुए पूछ रही है कि लॉकडाउन हटाया क्यों जा रहा है। यह कांग्रेस का दोहरा रवैया और पाखंड नहीं तो और क्या है।

जावड़ेकर ने कहा कि अमेरिका, ब्राजील, इटली, ब्रिटेन, फ्रांस और यहाँ तक कि चीन में भी इस महामारी के कारण जितना भारी नुकसान हुआ है, उसकी तुलना में भारत का नुकसान काफी कम है। भारत द्वारा समय पर लॉकडाउन का कदम उठाने की पूरी दुनिया में प्रशंसा हो रही है। उन्होंने कहा कि भारत के जिस कदम की पूरी दुनिया प्रशंसा करती है, कांग्रेस को उसका विरोध करने की आदत है। यही कांग्रेस की दोहरी मानसिकता का परिचायक है।

भाजपा नेता ने कहा कि गांधी लगातार प्रवासी मजदूरों की बात करते हैं लेकिन वह कांग्रेस शासित राज्यों में भी प्रवासी मजदूरों के कल्याण के लिए कोई कदम नहीं उठाते। वह मजदूरों की समस्या की आड़ में सिर्फ अपनी राजनीति चमकाना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि रेल मंत्रालय ने अब तक लगभग 3000 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के जरिये 40 लाख से अधिक लोगों को उनके गंतव्य प्रदेशों तक पहुंचाया है।

उत्तर प्रदेश और कर्नाटक जैसे भाजपा शासित राज्य मजदूरों के एकाउंट में कैश ट्रांसफर कर रहे हैं, उनके रोजगार की व्यवस्था कर रहे हैं। कांग्रेस को भी बताना चाहिए कि वे अपने शासित प्रदेशों में मजदूरों के लिए कौन-कौन से कदम उठा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि भाजपा तू-तू, मैं-मैं की राजनीति नहीं करना चाहती क्योंकि यह राष्ट्रीय आपदा का समय है लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि गांधी कुछ भी बोलें। अब ऐसा चलने वाला नहीं है। देश की जनता झूठ की राजनीति पसंद नहीं करती।

जावड़ेकर ने कहा कि गांधी बार-बार गरीबों को साढ़े सात हजार रुपए देने की बात करते हैं। जबकि मोदी सरकार ने इससे कहीं अधिक मदद गरीबों और मजदूरों को पहुंचाई है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने फ़ूड सिक्योरिटी के तहत देश के हर गरीब परिवार को पांच महीने तक 25 किलो चावल/गेहूं और 5 किलो दाल मुफ्त पहुंचाने का प्रबंध किया है।

इतना ही नहीं, जिनके पास राशन कार्ड नहीं है, उन्हें भी 10 किलो अनाज और 2 किलो दाल मुफ्त में दी जा रही है। महिला जन-धन खाता धारकों के एकाउंट में 500 रुपए के हिसाब से हर एकाउंट में 1500 रुपए ट्रांसफर किये जा चुके हैं। किसानों के एकाउंट में 2000 रुपए की सम्मान निधि अग्रिम क़िस्त के रूप में ट्रांसफर की जा चुकी है।

उन्होंने कहा कि देश के लगभग आठ करोड़ घरों में तीन गैस सिलिंडर केंद्र सरकार द्वारा मुफ्त दिया जा रहा है। दिव्यांगों और बुजुर्गों के एकाउंट में 1000 रुपए की आर्थिक सहायता दी गई है। इसके अतिरिक्त लगभग 50 लाख रेहड़ी-पटरी वाले लोगों को दस हजार रुपए की आर्थिक सहायता देने की योजना शुरू की जा रही है।

जावड़ेकर ने कहा कि राहुल गांधी, हिसाब कर लीजिये, आपकी मांग से कहीं अधिक मोदी सरकार ने लोगों को आर्थिक सहायता दी है। उन्होंने कहा कि जब पूरे देश को एक स्वर में बात करनी चाहिए, तब कांग्रेस विरोध की राजनीति करती है और उसके आरोप भी सत्य से कोसों दूर होते हैं। कांग्रेस को इस तरह की राजनीति नहीं करनी चाहिए। यही कारण है कि कांग्रेस से जनता ने किनारा कर लिया है।

देश में लॉकडाउन असफल रहा : राहुल गांधी