कांग्रेस की दिल्ली में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग

नई दिल्ली। दिल्ली प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष चौधरी अनिल कुमार ने राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद को पत्र लिखकर कहा है कि दिल्ली सरकार कोरोना महामारी के दौरान दायित्वों के निर्वहन में विफल रही है इसलिए राज्य सरकार को बर्खास्त कर दिल्ली में तत्काल राष्ट्रपति शासन लगाया जाना चाहिए।

चौधरी ने बुधवार को कोविंद को पत्र लिख कर कहा कि दिल्ली में कई दिनों से कोरोना पीड़ित लोग अस्पताल में भर्ती नहीं हो पा रहे है और ऑक्सीजन की कमी के कारण मरीज़ तड़प-तड़प कर मौत का ग्रास बन रहे हैं।

इस वैश्विक आपदा के प्रबंधन में राज्य सरकार का रवैया पूर्णतया गैर जिम्मेदाराना और लापरवाही वाला रहा है। अपने झूठे प्रचार-प्रसार पर सरकार ने करोड़ों रुपए विज्ञापन पर तो खर्च किए लेकिन महामारी से निपटने कि कोई तैयारी नहीं की।

उन्होंने कहा कि सरकार की लापरवाही और चिकित्सा के अभाव में लोग सड़कों पर दम तोड़ रहे हैं जबकि आक्सीजन और दवाइयों की कालाबजारी हो रही है और सरकार हाथ पे हाथ रखकर बैठी है। राज्य सरकार नागरिकों के प्रति कर्तव्य पालन में विफल रही है।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने राष्ट्रपति से अनुरोध किया है कि प्रदेश में कानून-व्यवस्था ठप हो गयी है और दिल्ली अराजकता की तरफ बढ़ रही है। दिल्ली हाईकोर्ट ने भी ऑक्सीजन की कमी और चिकित्सा की बदत्तर व्यवस्था के लिए राज्य सरकार को फटकार लगाई है लेकिन सरकार कोई ठोस कदम नहीं उठा रही है, इसलिए दिल्ली में तुरंत राष्ट्रपति शासन लगाया जाना चाहिए।