क्रिकेट की आत्मा को चोटिल कर रहा है बॉल टेम्परिंग: डेविड रिचर्डसन

Cricket is hurting the soul: Ball tampering: David Richardson
Cricket is hurting the soul: Ball tampering: David Richardson

लंदन । अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद(आईसीसी) प्रमुख डेविड रिचर्डसन का मानना है कि गेंद के साथ छेड़छाड़, छींटाकशी, मैदान पर बहस तथा खिलाड़ियों के लगातार खराब होते आचरण क्रिकेट की आत्मा और अस्तित्व को गहरा नुकसान पहुंचा रहे हैं।

आईसीसी प्रमुख ने लार्ड्स में एमसीसी के कॉलिन काउड्रे लेक्चर में ये बातें कहीं। उन्होंने साथ ही कहा कि खिलाड़ी शिकायत करते हैं कि बॉल टेम्परिंग के नियमों को लेकर उन्हें दुविधा है जबकि इसे लेकर नियम बिल्कुल साफ हैं। रिचर्डसन ने कहा,“ क्रिकेट की आत्मा ही उसकी ईमानदारी में समायी है और जो लोग इसका प्रतिनिधित्व करते हैं उन्हें पता है कि यह खेल से कहीं अधिक है।”

उन्होंने कहा,“ हम खिलाड़ियों के व्यवहार को भी देख रहे हैं जो खराब होता जा रहा है और इसे रोकना चाहिये। स्लेजिंग बढ़ती जा रही है जो व्यक्तिगत हो गयी है, फील्डर बल्लेबाज़ों को जाते हुये अपशब्द कह देते हैं, जबरदस्ती शारीरिक रूप से झगड़ना, अंपायर के निर्णय के खिलाफ खिलाड़ियों के प्रदर्शन करने की धमकी देना और गेद के साथ छेड़छाड़ जैसी हरकतें लगातार बढ़ रही हैं।”

आईसीसी प्रमुख ने कहा कि यह उस तरह का खेल नहीं है जैसा वैश्विक क्रिकेट में होना चाहिये। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ महीने में क्रिकेट में कई खराब स्थितियां पैदा हुई हैं। पूर्व आस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीवन स्मिथ गेंद के साथ छेड़छाड़ के दोषी पाये गये और उनकी टीम के दो और खिलाड़ी जिससे उनपर लंबे बैन लगाये गये हैं।