पूर्वोत्तर की विशिष्ट संस्कृति, इतिहास खतरे में : राहुल गांधी

गुवाहाटी। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने केन्द्र की भारतीय जनता पार्टी नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार की कड़ी आलोचना करते हुए मंगलवार को कहा कि मौजूदा शासन पूर्वोत्तर में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की विचारधारा को लागू करने का प्रयास कर रहा है जिसकी वजह से इन राज्यों की विशिष्ट संस्कृति और इतिहास खतरे में है।

गांधी ने यहां खानपारा वेटरनरी मैदान में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि आप लोगों की अपनी एक संस्कृति और भाषा है लेकिन अब उन्होंने (भाजपा सरकार ने) आपकी भाषा तथा इतिहास पर हमला करना शुरू कर दिया है। कांग्रेस आपकी संस्कृति और इतिहास की रक्षा करेगी।

गांधी ने राज्य सभा में नागरिकता संशोधन विधेयक, 2016 को राेेके जाने का श्रेय लेते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी की वजह से ही राजग सरकार पूर्वाेत्तर विधेयक को राज्य सभा में पारित नहीं करा सकी और अब हम आपकी सुरक्षा करेंगे।

उन्होेंने कहा कि 2014 से सत्ता में आने के बाद से केन्द्र सरकार ने पूर्वाेत्तर राज्योें की विशेष श्रेणी को छीनने का काम शुरू कर दिया और अगर कांग्रेस सरकार 2019 में सत्ता में आती है जो इस दर्जे को बरकरार रखा जाएगा।

गांधी ने कहा कि हम विशेष श्रेणी का दर्जा बरकरार रखने, पूर्वोत्तर औद्योगिक नीति को लागू करने और इन राज्यों में बाढ़ की समस्या को हल करने की दिशा में काम करेंगें और उनकी पार्टी असम को पूरे क्षेत्र में एक तकनीकी हब बनाएगी।

उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर अपने वादोे को पूरा नहीं करने पर प्रहार करते हुए कहा कि मैं आपसे ऐसा कोई वादा नहीं करूंगा जिसे मैं पूरा न कर सकूं लेकिन अगर कांग्रेस पार्टी 2019 में सत्ता में आती है जो यह आश्वासन देता हूं कि किसानों और शिक्षा ऋण माफ किए जाएंगे।

उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में सत्ता में आने के बाद कांग्रेसी सरकारों ने किसानों के कर्जे माफ करने के अपने वादों को पूरा किया है।

गांधी ने कहा कि अनेक लोगों का कहना था कि ऋण माफ करने के लिए धन कहां है लेकिन हमने इन तीनों राज्यों में सत्ता में आने के दो दिनों के भीतर ही यह कर दिखाया है।