महिला हॉकी टीम इंग्लैंड से 0-6 से कांस्य पदक मैच हारीं

CWG 2018 : Women's hockey team lose bronze medal to England 0-6
CWG 2018 : Women’s hockey team lose bronze medal to England 0-6

गोल्ड कोस्ट। भारतीय महिला हॉकी टीम शनिवार को यहां 21वें राष्ट्रमंडल खेलों में इंग्लैंड के हाथों 0-6 की करारी शिकस्त के साथ अपना कांस्य पदक मुकाबला भी गंवा बैठी।

इंग्लैंड के लिये सोफी ब्रे ने 44वें, 49वें और 56वें मिनट में तीन गोल दागे जबकि पियर्ने वेब ने 27वें, लॉरा अंसवर्थ ने 55वें और कप्तान एलेक्सांद्र डैनसन ने 57वें मिनट में गोल करते हुये भारतीय टीम को बुरी तरह से धो दिया।

भारतीय टीम ने अच्छी शुरूआत की थी और पहले ही क्वार्टर में गेंद पर कब्जा करते हुये मौके बनाये। आठवें मिनट में उसने दो लगातार पेनल्टी कार्नर हासिल किये लेकिन गुरजीत कौर के प्रयासों को इंग्लैंड की गोलकीपर मैडेलिन हिंच ने बेकार कर दिया। इंग्लैंड को फिर 12वें मिनट में पेनल्टी कार्नर मिला जिसे भारतीय गोलकीपर सविता ने बचा लिया।

मैच के दूसरे क्वार्टर में फिर दोनों टीमों ने लगातार गोल के मौके बनाये। लेकिन इंग्लैंड ने हाथ आये अहम मौकों को भुनाया और 27वें मिनट में पेनल्टी कार्नर पर वेब ने गोल दाग टीम को 1-0 से बढ़त दिला दी। दोनों टीमें हाफ टाइम तक 1-0 पर रहीं। उस समय तक भारत के मुकाबले में वापसी की उम्मीद थी और तीसरे क्वार्टर में भारत ने तीन पेनल्टी कार्नर हासिल कर लिये।

भारतीय टीम के पास तीसरे क्वार्टर में बराबरी का बेहतरीन मौका आया जब फारवर्ड लालरेमसियामी ने 36वें मिनट में गेंद को गोल्ड पोस्ट में डिफ्लेक्ट किया लेकिन वह किनारे से निकल गया। मैच के 44वें मिनट में इंग्लैंड ने फिर अपनी बढ़त को दोगुना कर दिया और इस बार सोफी ब्रे ने बेहतरीन और काफी तेज़ी से शॉट दागा जिसे सविता बचा नहीं सकीं और विपक्षी टीम 2-0 से आगे हो गई।

भारत पर अब दबाव बहुत बढ़ गया और आखिरी क्वार्टर में वह गोल के लिए मौके तलाशती रही लेकिन विश्व की दूसरे नंबर की इंग्लिश टीम ने अपना दबदबा बनाये रखा और 46वें मिनट में दीप ग्रेस एका के पेनल्टी कार्नर को इंग्लैंड की सोफी ब्रे ने गोल्ड पोस्ट के सामने खड़े रहकर बचा लिया।

दूसरी ओर इंग्लिश टीम के लिये सोफी ने 49वें और 56वें मिनट में दो और गोल दाग दिये जबकि पस्त हो चुकी 10वें नंबर की भारतीय टीम के खिलाफ लॉरा ने 55वें और कप्तान डैनसन ने 57वें मिनट में गोल करते हुए कांस्य पदक अपने नाम कर लिया।