CWG 2022 : बैडमिंटन के रोमांचक मुकाबले में हारकर भारत को मिला रजत

बर्मिंघम। भारत की शीर्ष शटलर पीवी सिंधु ने राष्ट्रमंडल खेल 2022 के मिश्रित बैडमिंटन टीम फाइनल में सिंगापुर की गोह जिन वेई को हराकर मुकाबले को 1-1 की बराबरी पर ला दिया है।

बर्मिंघम 2022 की मिश्रित बैडमिंटन प्रतियोगिता में भारत सिंगापुर का सामना कर रहा है जहां अधिकतम पांच मैच खेले जाएंगे और यह टाई जीतने वाली टीम स्वर्ण पदक हासिल करेगी।

फाइनल में भारत की शुरुआत अच्छी नहीं हुई। सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी की जोड़ी को पहले मैच में टेंग फोंग और वूई सोह के हाथों 18-21, 15-21 से हार मिली। पहले गेम में भारतीय जोड़ी 18-15 से आगे चल रही थी मगर मलेशियाई जोड़ी ने लगातार छह पॉइंट जड़कर मैच में 1-0 की बढ़त ली और फिर सीधे गेमों में भारत को हराया।

इसके बाद महिला एकल मैच में पुसरला वेंकट सिंधु का सामना गोह जिन वेई से हुआ जहां सिंधु ने 22-20, 21-17 से जीत दर्ज की। मलेशियाई खिलाड़ी ने पहले गेम के शुरुआती हिस्से में पिछड़ने के बाद सिंधु को कड़ी टक्कर दी, लेकिन दो बार की ओलंपिक पदक विजेता ने संयम बरतते हुए टाई को 1-1 की बराबरी पर पहुंचाया।

पुरुष एकल मैच में किदांबी श्रीकांत की करीबी मैच में हार के बाद भारत 1-2 से पिछड़ गया। किदांबी ने एनजी ट्ज़ो योंग को कड़ी टक्कर दी, लेकिन पहली बार राष्ट्रमंडल खेलों में हिस्सा ले रहे योंग ने तीन गेमों के मैच में किदांबी को 21-19, 6-21, 21-16 से मात दी।

अब त्रिशा जॉली और गायत्री गोपीचंद को महिला युगल मैच में कूंग ली परली और मुरलीधरन थिनाह का सामना करना था, और टाई में बरकरार रहने के लिये भारत को यह मैच जीतना जरूरी थी। दुर्भाग्यवश, जॉली और गोपीचंद की जोड़ी ऐसा न कर सकी और सीधे गेमों में उन्हें 21-18, 21-17 से हार मिली।

सिंगापुर ने 3-1 की जीत के साथ बर्मिंघम 2022 की मिश्रित बैडमिंटन प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक हासिल किया। गोल्डकोस्ट राष्ट्रमंडल खेल 2018 में मलेशिया को भारत से हारकर रजत से संतोष करना पड़ा था, लेकिन यहां उन्होंने अंततः भारत पर जीत दर्ज की। दूसरी ओर, भारत अब तक राष्ट्रमंडल खेल 2022 में पांच स्वर्ण, पांच रजत और तीन कांस्य 13 पदक जीत चुका है।

CWG 2022 : भारत ने लगातार दूसरी बार जीता पुरुष टेबल टेनिस का स्वर्ण पदक

CWG 2022 : भारत ने लगातार दूसरी बार जीता पुरुष टेबल टेनिस का स्वर्ण पदक

CWG 2022 : भारत ने लॉन बोल में जीता ऐतिहासिक स्वर्ण पदक