क्लोन चेक के जरिए निकाले गए रुपए ट्रस्ट के खाते में वापस आए

अयोध्या। उत्तर प्रदेश में अयोध्या स्थित श्रीरामजन्मभूमि पर भव्य मंदिर निर्माण के लिए बने श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के खाते से जालसाजी कर निकाले गए छह लाख रुपए ट्रस्ट को वापस मिल गए हैं।

श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चम्पतराय ने बताया कि फर्जी चेक पर हस्ताक्षर करके श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के भुगतान खाते से निकाल कर पंजाब नेशनल बैंक में ट्रान्सफर कराए गए छह लाख रुपए भारतीय स्टेट बैंक ने वापस ट्रस्ट के खाते में जमा करा दिया है। उन्होंने इसके लिए भारतीय स्टेट बैंक के सम्बन्धित अधिकारियों के प्रति आभार व्यक्त किया है।

राय बताया कि लखनऊ के दो बैंकों से चेक क्लोनिंग के जरिये श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के खाते से यह रकम निकाली गई। जालसाज ने तीसरी बार रकम निकालने की कोशिश की तो उन्हें फोन से सूचना दी गई।

ट्रस्ट के खाते से रुपए निकाले जाने को लेकर हडकम्प मच गया। इसको कोतवाली अयोध्या में अज्ञात जालसाज के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर पुलिस ने जांच शुरू कर दी है। उन्होंने बताया कि एक सितम्बर को लखनऊ के एक बैंक से ढाई लाख रुपए निकाले गए। उसके दो दिन बाद साढ़े तीन लाख रुपए निकाले गए। तीसरी बार जब नौ लाख छियासी हजार का तीसरा चेक लखनऊ के ही बैंक ऑफ बड़ौदा में लगाया गया तो वेरीफिकेशन के लिए ट्रस्ट को लखनऊ से कॉल किया गया, जिसके बाद ट्रस्ट ने इस तरह के किसी भी भुगतान से इन्कार कर दिया।

ट्रस्ट के महासचिव चम्पत राय ने जब खाता चेक किया तो छह लाख रुपए निकाले जाने की जानकारी मिली। इसके बाद रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के पदाधिकारियों ने इस मामले की जानकारी अयोध्या पुलिस को देते हुए मुकदमा दर्ज कराया।

क्लोन चेक के जरिए श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के खाते से जालसाजी कर छह लाख रुपए निकाले जाने के बाद ट्रस्ट सतर्क हो गया है। श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने पेमेंट करने के तरीके में बदलाव करने का निर्णय लिया है। ट्रस्ट अब चेक के जरिए कोई भुगतान नहीं करेगा। अधिकांश भुगतान आरटीजीएस के जरिए होगा।

ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने कहा कि अब भुगतान के लिए आरटीजीएस प्रणाली का प्रयोग किया जाएगा। खाते की सुरक्षा के लिए बैंक से लगातार बात हो रही है। उन्होंने कहा कि बैंकों की यह बड़ी चूक है कि क्लोन चेक को क्यों नहीं पकड़ा।