गोवा के सीएम मनोहर पर्रिकर को बीयर डेट के लिए खुला न्योता

Days After Parrikar's Beer Comment, Delhi Novelist Issues Open Invite for Beer Date with Goa CM
Days After Parrikar’s Beer Comment, Delhi Novelist Issues Open Invite for Beer Date with Goa CM

पणजी। गोवा के मुख्यमंत्री और पूर्व रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर का लड़कियों के बीयर पीने पर डर लगने वाला बयान वायरल होने के बाद सोशल मीडिया पर ‘#GirlsWhoDrinkBeer’ अभियान शुरू हो गया है। दिल्ली की एक उपन्यासकार ने पर्रिकर को खुले तौर पर बीयर डेट के लिए न्योता दिया है।

कोटा नीलिमा ने बुधवार को पर्रिकर को एक खुले पत्र में लिखा कि वह ‘राजनीतिक और लोकंतात्रिक शासन में पितृसत्तात्मक विचारों के खिलाफ प्रभावी तरीके से अवाज उठाने के लिए’ उनके (पर्रिकर) के साथ बीयर पीने के लिए समान विचारधारा वाले पुरुषों और महिलाओं के साथ पांच मार्च को गोवा में उनके कार्यालय या आवास पर पहुंचेंगी।

उन्होंने लिखा कि मैंने अपनी ओर से पांच मार्च, 2018 को शाम पांच बजे का समय नियत कर रखा है। आपके सज्जन और दयालु स्वभाव को जानते हुए मुझे भरोसा है कि आप बीयर कार्यक्रम के लिए इस तरह की बैठक को खासकर लड़कियों के साथ, या तो रद्द कर देंगे या देरी लगाएंगे।

नीलिमा ने पत्र में लिखा कि तो हम वहां होंगे, आप हम पर भरोसा कर सकते हैं। मैं उम्मीद करती हूं कि आप हमसे मिलने के लिए वहां मौजूद होंगे। कृपया याद रखिए हैशटैगबीयर के आगे जीत है।

उन्होंने पर्रिकर को लिखे पत्र को ट्विटर पर भी साझा किया। नीलिमा ने मुख्यमंत्री के आवास पर बीयर पीने के कार्यक्रम में समान विचारधारा वाले पुरुषों, महिलाओं से शामिल होने का आग्रह किया है।

उन्होंने अपने पत्र में यह भी लिखा कि एक जिम्मेदार नागरिक होने के नाते आपके भय को दूर करना और यह सुनिश्चित करना कि आप बिना किसी डर के या पक्षपात के अपने कर्तव्य का निर्वहन कर सकते हैं, हमारी जिम्मेदारी है।

नीलिमा ने बताया कि बीयर पर पर्रिकर से मुलाकात करने के अभियान को सोशल मीडिया पर अच्छी प्रतिक्रिया मिली है। नीलिमा ने कहा कि यह निमंत्रण पुरुषों और महिलाओं, दोनों के लिए है। हम मुख्यमंत्री से मिलने के लिए बड़ी संख्या में पांच मार्च को गोवा पहुचेंगे और उनके साथ बीयर पीएंगे।

गौरतलब है कि पिछले सप्ताह छात्रों से संवाद के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा था कि मुझे अब डर लगने लगा है, क्योंकि लड़कियों ने भी बीयर पीना शुरू कर दिया है। सहनशीलता की सीमा को पार किया जा रहा है..हालांकि उनमें से सब ऐसे नहीं हैं। पर्रिकर का यह बयान विवादों में घिर गया और वह सोशल मीडिया पर ट्रोल किए जाने लगे।