डीबीएस ने फ्यूचर रिटेल के लिए इनवॉयसमार्ट पर अपना पहला फैक्टरिंग ट्रांजैक्शन किया

मुंबई, अग्रणी डिजिटल इनवॉयस डिस्काउंटिंग प्लेटफॉर्म इनवॉयसमार्ट ने डीबीएस बैंक इंडिया द्वारा पहले फैक्टरिंग ट्रांजैक्शन को कार्यान्वित करने की घोषणा की है। यह साझेदारी फाइनेंसिंग के नये स्वरूप के द्वार खोलती है जोकि ऑनलाइन डिजिटल इनवॉयस डिस्काउंटिंग के रूप में सामने आये हैं।

इस अवसर पर श्री कल्याण बासु, ए. ट्रेड्स लिमिटेड के सीईओ एवं एमडी (इनवॉयसमार्ट के मालिक एवं परिचालक) ने कहा, ‘‘डीबीएस के संकलन के साथ, हम अपनी पहले से ही बढ़ रही फाइनेंसर्स की सूची में एक अंतर्राष्ट्रीय साख वाला वित्तीय संस्थान जोड़ रहे हैं। डीबीएस एक प्रतिष्ठित विदेशी बैंक है जोकि फैक्टरिंग बिजनेस की गतिशीलता को समझता है। हमें उनके साथ साझेदारी करके खुशी हो रही है और हम उनके साथ लंबे एवं लाभदायक सहयोग की आशा करते हैं।

विश्व स्तर पर फैक्टरिंग 3 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर का उद्योग है, लेकिन भारत की भागीदारी इसमें बेहद कम है। आरबीआइ की पहल एमएसएमई को फाइनेंस का वैकल्पिक स्रोत मुहैया करा रही है, यह काबिलेतारीफ तो है ही, साथ ही नकदी की कमी झेल रहे एमएसएमई के लिए एक बड़ा वरदान है जो अर्थव्यवस्था का आधार हैं। फाइनेंसर्स एमएसएमई को तरलता मुहैया कराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं और उनकी प्रतिबद्धता ट्रेड्स मॉडल की सफलता के लिए महत्वपूर्ण है।

रोशन मैथ्यू, हेड-ट्रांजैक्शन बैंकिंग, डीबीएस बैंक ने कहा, ‘‘पूरी दुनिया में बैंकिंग में तकनीकी एनेबल्ड बदलाव देखा जा रहा है। डीबीएस, बैंकिंग के पारंपरिक रूप से परिचालन करने वाले तरीकों को चुनौती देने में सबसे आगे है और इस नये ढंग से तकनीक का इस्तेमाल कर चीजों को अलग तरीके से करने का काम किया है। इसी तरह इनवॉयसमार्ट जैसे प्लेटफॉर्म भी ऑनलाइन फैक्टरिंग की मदद से बरसों से चले आ रहे बिजनेस मॉडलों को बदल रहे हैं। इस प्लेटफॉर्म की मदद से भारतीय कंपनियां, खासकर एसएमईज पारदर्शी, प्रतिस्पर्धी कीमत वाले ट्रेड फाइनेंसिंग को जल्दी ऐक्सेस कर सकती हैं जिससे उन्हें अपनी प्राप्त राशियों का मौद्रिक लाभ उठाकर तत्काल अपना नकदी प्रवाह बेहतर बनाने में मदद मिलेगी।‘‘

हर्षा सक्सेना, हेड ट्रेजरी, फ्यूचर रिटेल लिमिटेड ने बताया, ‘‘ ट्रेड्स हमारे और हमारे एमएसएमई सप्लायर्स के लिए एक स्पष्ट बेहतरीन मॉडल है, यह हमारे सप्लायर्स को उनका भुगतान फौरन कराता है। भुगतान प्रक्रिया के ऑटोमेशन के साथ ही, यह ब्याज लागत के रूप में उल्लेखनीय बचत भी करता है। हमारा देश बदलाव के मोड़ पर है और कॉर्पोरेट भारत को अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने में योगदान करने की जरूरत है। फ्यूचर ग्रुप में, हम प्लेटफॉर्म में अधिक से अधिक सप्लायर्स को जोड़ने के लिए प्रतिबद्ध हैं।‘‘

दूसरे ट्रेड्स एक्सचेंजों के साथ मिलकर इनवॉयसमार्ट ने हाल ही में अपने पहले एंटरप्राइज ब्लॉकचेन समाधान को लागू किया है। इस समाधान ने सुनिश्चित किया है कि क्लाइंट की जानकारी को पूरी तरह से गोपनीय रखते हुये डुप्लीकेट फाइनेंसिंग को रोका जा सके।

श्री कल्याण बासु ने बताया, ‘‘यह प्लेटफॉर्म तेज गति से विकसित हो रहा है, ऐसे में हम निरंतर फीडबैक ले रहे हैं और अपनी क्षमताओं को बढ़ा रहे हैं। हमने ब्लॉकचेन को भी लागू किया है जो फर्जीवाड़ों को रोकने पर लक्षित है। इस वित्तीय वर्ष में, हम जीएसटी को एकीकृत करेंगे जोकि एमएसएमई को वैकल्पिक स्रोत के जरिये क्रेडिट हिस्ट्री बनाने में मदद करेगा। यह सभी पहलें ट्रेड्स में ग्राहकों की विश्वसनीयता एवं भरोेसा बढ़ाने की दिशा में काम करेंगी।