दीपक, रवि ने किया एशियन कुश्ती चैंपियनशिप के लिये क्वालीफाई

Deepak, Ravi qualified for Asian Wrestling Championship
Deepak, Ravi qualified for Asian Wrestling Championship

नई दिल्ली। टोक्यो ओलंपिक का कोटा हासिल कर चुके पहलवान दीपक पुनिया और रवि कुमार दहिया ने सीनियर एशियाई कुश्ती चैंपियनशिप के लिये क्वालीफाई कर लिया है।

राजधानी के केडी जाधव रेसलिंग इंडोर स्टेडियम में शुक्रवार को हुये ट्रायल में दोनों स्टार पहलवानों ने 17-23 फरवरी तक चलने वाली एशियन चैंपियनशिप के लिये अपने अपने वर्गों में क्वालीफाई कर लिया।

लगातार शानदार प्रदर्शन की बदौलत विश्व के नंबर एक जूनियर पहलवान बने दीपक ने वर्ष 2020 की जबरदस्त शुरूआत करते हुये 86 किग्रा फ्री स्टाइल वर्ग में क्वालीफाई कर लिया। उन्होंने ट्रायल में 2014 राष्ट्रमंडल खेलों के कांस्य विजेता पवन कुमार को पराजित किया। दीपक ने पिछले वर्ष सीनियर विश्व चैंपियनशिप में रजत पदक जीता था।

विश्व चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीतने वाले रवि कुमार ने अपने 57 किग्रा वर्ग के लिये क्वालीफाई किया और एयरफोर्स के पंकज को एकतरफा अंदाज़ में 10-0 से पराजित किया।

विश्व चैंपियनशिप के कांस्य पदक विजेता बजरंग पुनिया को उनके लगातार अच्छे प्रदर्शन की बदौलत इस ट्रायल से छूट दी गयी थी जबकि 74 किग्रा वर्ग के पहलवान सुशील कुमार हाथ की चोट के कारण ट्रायल से हट गये थे। दो बार के ओलंपिक पदक विजेता सुशील ने भारतीय कुश्ती महासंघ को मेडिकल सर्टिफिकेट देकर अपने वजन वर्ग का ट्रायल स्थगित करने का अनुरोध किया था लेकिन फेडरेशन ने उनका यह आग्रह ठुकरा दिया था।

इस ट्रायल के विजेता रोम में 15-18 जनवरी तक होने सत्र के पहले रैंकिंग टूर्नामेंट, दिल्ली में 18-23 फरवरी तक होने वाली एशियाई चैंपियनशिप और चीन में 27 से 29 मार्च तक होने वाले एशियाई ओलम्पिक क्वालिफायर के लिए भारतीय टीम में जगह बनाएंगे।

पुरुष फ्रीस्टाइल में रवि दहिया (57 किग्रा), बजरंग पुनिया (65 किग्रा) और दीपक पुनिया (86 किग्रा) तथा महिला वर्ग में विनेश फोगाट (53 किग्रा) नूर सुल्तान में विश्व चैंपियनशिप में टोक्यो ओलम्पिक के लिये कोटा हासिल कर चुके हैं।

यदि सुशील के वजन वर्ग में कोई मजबूत पहलवान सामने निकलकर नहीं आता है तो उनके लिये एक मौका हो सकता है। फेडरेशन ने कल कहा था कि 74 किग्रा में विजेता का प्रदर्शन देखा जाएगा जिसके बाद ही सुशील को मार्च में होने वाले एशियाई ओलम्पिक क्वालिफायर में मौका देने के बारे में कोई फैसला किया जाएगा। फेडरेशन ने कहा कि टोक्यो ओलंपिक के लिए एशियन क्वॉलिफायर्स में यदि उसके पास मजबूत दावेदार नहीं होता है, तो वह सुशील को ट्रायल्स के लिए बुला सकता है।